Hadith

Jo Log Gareebi ki wajah se Hajj nahi kar paye unke liye

Bismillahirriahmanirrahim

*✦ Jo Log Gareebi ki wajah se Hajj nahi kar paye unke liye sawab kamane ka ek aasan amal*
————
✦ Abu Hurairah Radi Allahu Anhu ne farmaya gareeb log Nabee Sallallahu Alaihi wasallam ki khidmat mein hazir huye aur kaha ki Ameer aur Raees log buland darjat aur hamesha rahne wali jannat hasil kar chuke halanki jis tarah hum namaz parhte hain wo bhi parhte hain aur jaise hum roze rakhte hain wo bhi rakhte hain lekin maal wa Daulat ki wajah se unhe hum par fowqiyat hasil hai ki uski wajah se wo HAJJ karte hain Umrah karte hain Jihad karte hain aur sadqa dete hain aur hum Mohtaji ki wajah se un kaamo ko nahi kar paate

✦ is par Aap Sallallahu Alaihi wasallam ne farmaya ki main tumhe ek aisa amal batata hun ki agar tum uski pabandi karoge to jo log tumse aage bad chuke hain tum un tak pahunch jaoge aur tuhare martabe tak phir koi nahi pahunch sakta aur tum sabse achche ho jaoge siwa unke jo yahi amal shuru kar de

✦ Har namaz ke baad 33 martaba Tasbeeh ( Subhanallah) aur Tamheed ( Alhamdulillah) aur Takbeer ( Allahu Akbar) kaha karo phir hum main Ikhtilaf ho gaya kisi ne kaha ki hum tasbeeh 33 martaba , tamheed 33 martaba aur takbeer 34 martaba kahe .

✦ Maine is par Aap Sallallaho Alaihe wasallam se dobara malum kiya to Aap Sallallaho Alaihe wasallam ne farmaya Subhanallah aur Alhamdulillah aur Allahu akbar kaho taki har ek unmein se 33 martaba ho jaye .
Sahih Bukhari, Vol 2, #843
—————–
✦ जो लोग ग़रीबी की वजह से हज नही कर पाए उनके लिए सवाब कमाने का एक आसान अमल
—————–
✦ अबू हुरैरा रदी अल्लाहू अन्हु ने फरमाया ग़रीब लोग नबी सललाल्लाहू अलैही वसल्लम की खिदमत में हाज़िर हुए और कहा की अमीर और रईस लोग बुलंद दरजात और हमेशा रहने वाली जन्नत हासिल कर चुके हालाँकि जिस तरह हम नमाज़ पढ़ते हैं वो भी पढ़ते हैं और जैसे हम रोज़ा रखते हैं वो भी रखते हैं लेकिन माल और दौलत की वजह से उन्हे हम पर फोवक़ियत हासिल है ( यानि उनके पास माल ज्यादा है ) जिसकी वजह से वो हज करते हैं, उमराह करते हैं जिहाद करते हैं और सदक़ा देते हैं और हम मोहताजी की वजह से उन कामों को नही कर पाते

✦ इस पर आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया की मैं तुम्हे एक ऐसा अमल बताता हूँ की अगर तुम उसकी पाबंदी करोगे तो जो लोग तुमसे आगे बढ़ चुके हैं तुम उन तक पहुँच जाओगे और तुम्हारे मर्तबे तक फिर कोई नही पहुँच सकता और तुम सबसे अच्छे हो जाओगे सिवा उनके जो यही अमल शुरू कर दे

✦ हर नमाज़ के बाद 33 मर्तबा तसबीह ( सुबहानअल्लाह) और तम्हीद ( अल्हाम्दुलिल्लाह) और तकबीर ( अल्लाहू अकबर) कहा करो फिर हम मैं इकतिलाफ हो गया किसी ने कहा की हम तसबीह 33 मर्तबा , तम्हीद 33 मर्तबा और तकबीर 34 मर्तबा कहे .

✦ मैने इस पर आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम से दोबारा मालूम किया तो आप सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया सुबहानअल्लाह और अल्हाम्दुलिल्लाह और अल्लाहू अकबर कहो ताकि हर एक उनमें से 33 मर्तबा हो जाए .
सही बुखारी, जिल्द 2, #843

mm

Noor Saba

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm

Comments

comments

Most Popular

To Top