Islamic Blog

Islamic Updates







Latest post

Shab E Barat quotes

*Rehmaton ki hai ye raat, Namazon ka rakhna sath, Manwa lena rab se har baat, Duaon men rakhna yaad, Mubarak ho aap ko Shab-e-Barat.   *Hawa ko khushbu Fiza ko mausum Chaman ko gul mubarak Aapko humari taraf se Shab-e-Barat…

Shab E Barat Ki Namaz Aur Salatus Tasbeeh

Shab E Baraat – Gunnahon Se Tauba Karne Wali Raat SHAB-E-BARAT Gunahon per nadamat aur Duaon ki qabuliat ke qeemti lamhat Quran Majid main Irshad-E-Bari Ta’ala hai:” Is raat main her hikmat wala kaam hamaray (Allah Ta’ala ke) samne peish ho…

Islamic quotes in hindi

“जो अल्लाह की रह पर खर्च करने में कंजूसी करता है, वह असल में अपने ही साथ कंजूसी करता है।”   “जो अपने आपको जानता है, वह अल्लाह को जानता है।” “जितना अधिक आप कुरान को पढ़ते हैं उतना अधिक…

Hazrat Ali Biography

Hazrat Ali Biography । हज़रत अली जीवनी  हज़रत अली जो की मोहम्मद पैगम्बर के चचेरे भाई और बादमे दामाद थे।  उनका मोहम्मद पैगम्बर के धर्मप्रचार में बहुत बड़ा योगदान रहा।  उन्होंने मोहम्मद पैगम्बर की कई दफा जान बचाइ।  खैबर की जंगमे उन्होंने कईको…

Short Biography – Hazrat Imam Hasan Radiallahu Anhu

“BE ADAB GUSTAK FIRKO KO SUNA DE E HASAN YU KIYA KARTE HE SUNNI DASTANE AHLE BAIT” Name: Hasan (AS) – the 2nd Holy Imam Title: al-Mujtaba Agnomen: Abul-Mohammad Father: Imam Ali (AS) – the 1st Holy Imam Mother: Hazrat…

Gusl Ka Tarika

किन किन चीज़ों से ग़ुस्ल फ़र्ज़ हो जाता है जिन चीज़ों से ग़ुस्ल फ़र्ज़ हो जाता है वह पांच हैं – ( 1 ) मनी का अपनी जगह से शह्वत के साथ जुदा होकर निकलना ( 2 ) एहतेलाम यानी सोते…

Pani ka bayan in Islam

पानी का बयान | Pani ka bayan in hindi जिन जिन पानियों से वुज़ू जाइज़ है उन से ग़ुस्ल भी जाइज़ है । और जिन जिन पानियों से वुज़ू नाजाइज़ है उन से ग़ुस्ल भी नाजाइज़ है । किन किन पानियों…

Namaz ke makruhat

नमाज में जो बातें मकरूह हैं वह ये है कपड़े या बदन या दाढ़ी मूंछ से खेलना , कपड़ा समेटना , जैसे सज्दे में जाते वक़्त आगे या पीछे से दामन या चादर या तहबन्द उठा लेना । कपड़ा लटकाना…

Bimar ki namaz ka bayaan in hindi

बीमार की नमाज का बयान | Bimar ki namaz ka bayaan in hindi बीमार की नमाज का बयान अगर बीमारी की वजह से खड़े होकर नमाज़ नहीं पढ़ सकता कि मरज बढ़ जाएगा । या देर में अच्छा होगा ।…

Namaz chasht in hindi

चाश्त की नमाज कम से कम दो रकअत और ज्यादा से ज्यादा बारह रकअत है । हुजूरे अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि जो शख़्स चाश्त की दो रकअतों को हमेशा पड़ता है । उसके गुनाह बख़्श दिये जायेंगे…