Islamic Blog

Islamic Updates




Ramzan

रमज़ान के हर दिन का सवाब

“`💐ह़ज़रत अ़ली رَضِىَ اللّٰهُ تَعَالٰى عَنٔه से रिवायत हैं कि रसूलल्लाह صَلَّى اللّٰهُ تَعَالٰى عَلَئهِ وَ اٰلِهٖ وَسَلَّم से रमज़ान की तरावीह़ के बारे में सवाल किया गया तो आप صَلَّى اللّٰهُ تَعَالٰى عَلَئهِ وَ اٰلِهٖ وَسَلَّم ने फ़रमाया:“`

*01-* “`रमज़ान की पहली रात में मोमिन बन्दा अपने गुनाहों से ऐसा पाक हो जाता हैं जैसे आज मां के पेट से पैदा हुआ हैं!“`

*02-* “`दुसरी रात में उसकी और उसके मुसलमान मां बाप की मग़्फ़िरत हो जाती हैं!“`

*03-* “`तीसरी रात में फ़रिश्ता अ़र्श के नीचे से पुकारता हैं कि अब नए सिरे से अ़मल कर क्यूंकि तेरे पिछले गुनाह मुआ़फ़ हो चुके हैं!“`

*04-* “`चौथी रात में उसे तौरात, इन्जील, ज़बूर और कुरआने मजीद पढ़ने का सवाब मिलता हैं! “`

*05-* “`पांचवी रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ उसे उस शख़्स का सवाब अ़त़ा करता हैं जिसने मस्जिदे नबवी, मस्जिदे ह़राम और मस्जिदे अक़्सा में नमाज़े अदा की हो!“`

*06-* “`छठी रात में बैतुल मामूर के तवाफ़ करने वाले के बराबर सवाब मिलता हैं और तमाम पत्थर और ढ़ेले उसकी मग़्फ़िरत चाहते हैं!“`

*07-* “`सांतवी रात में इतना सवाब मिलता है गोया ह़ज़रते मूसा عَلَئهِ الصَّلٰوةُ وَالسَّلَامٔ से मुलाक़ात और फ़िरऔन के मुक़ाबले में उनकी मदद की!“`

*08-* “`आंठवी रात में उसे इतना सवाब मिलता हैं जितना ह़ज़रत इब्राहीम عَلَئهِ الصَّلٰوةُ وَالسَّلَامٔ को मिला!“`

*09-* “`नवीं रात में रसूलल्लाह صَلَّى اللّٰهُ تَعَالٰى عَلَئهِ وَ اٰلِهٖ وَسَلَّم की इ़बादत का सवाब मिलता हैं!“`

*10-* “`दसवीं रात में दीन दुनिया की बेहतरी अ़त़ा करता हैं!“`

*11-* “`ग्यारहवीं रात में दुनिया से इस त़रह़ अलग हो जाता हैं गोया आज मां के पेट से पैदा हुआ हैं!“`

*12-* “`बारहवीं रात में ये फ़ज़ीलत मिलती हैं कि उसका चेहरा क़यामत के दिन चौदहवीं के चांद की त़रह़ रौशन होगा!“`

*13-* “`तेरहवीं रात की बरकत से क़यामत में उसे हर त़रह़ की बुराई से अम्न मिलेगा!“`

*14-* “`चौदहवीं रात की इ़बादत से फ़िरिश्तें उसकी इ़बादत की गवाही देंगे और अल्लाह عَزَّوَجَلَّ उसे क़यामत के ह़िसाब से आज़ाद कर देगा!“`

*15-* “`पन्द्रहवीं रात में फ़िरिश्तें और अ़र्श और कुर्सी उठाने वाले फ़िरिश्तें उस पर रह़मत भेजते हैं!“`

*16-* “`सोलहवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ दोज़ख से आज़ादी और जन्नत में दाख़िल होने का परवाना लिख देता हैं!“`

*17-* “`सत्रहवीं रात में नबियों عَلَئهِ الصَّلٰوةُ وَالسَّلَامٔ के बराबर सवाब मिलता हैं!“`

*18-* “`अठारहवीं रात में एक फ़िरिश्ता पुकारता हैं कि “ऐं खुदा عَزَّوَجَلَّ के बन्दे, तुझ से और तेरे मां बाप से खुदा عَزَّوَجَلَّ रज़ामन्द हैं”!“`

*19-* “`उन्नीसवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ जन्नतुल फ़िरदौस में उसके दर्जे बुलन्द कर देता हैं!“`

*20-* “`बीसवीं रात में शहीदों और नेकों का सवाब मिलता हैं!“`

*21-* “`इक्कीसवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ उसके लिए जन्नत में एक महल तय्यार करता हैं!“`

*22-* “`बाइसवीं रात में ये बरकत ह़ासिल होती हैं कि वो क़यामत के दिन हर त़रह़ के ग़म और अन्देशे से बेख़ौफ़ रहेगा!“`

*23-* “`तेईसवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ उसके लिए जन्नत में एक शहर तय्यार करता हैं!“`

*24-* “`चौइसवीं रात में चालीस साल की इ़बादत का सवाब मिलता हैं!“`

*25-* “`पच्चीसवीं रात में उससे क़ब्र का अ़ज़ाब उठा लिया जाता हैं!“`

*26-* “`छब्बीसवीं रात में चालीस साल की इ़बादत का सवाब मिलता हैं!“`

*27-* “`सत्ताईसवीं रात की फ़ज़ीलत से वह पुल सिरात पर से कौंदती हुई बिजली की त़रह़ गुज़र जाएगा!“`

*28-* “`अठ्ठाइसवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ उसके लिए जन्नत में हज़ार दर्जे बुलन्द कर देता हैं!“`

*29-* “`उन्तीसवीं रात में हज़ार मक़बूल ह़ज का सवाब मिलता हैं!“`

*30-* “`तीसवीं रात में अल्लाह عَزَّوَجَلَّ फ़रमाता हैं:“`
“`🌹“ऐं मेरे बन्दे, जन्नत के मेवे खा और सलसबील के पानी से नहा और आबे कौसर पी, मैं तेरा रब हूं और तू मेरा बन्दा”!“`

*📗(नुज़्हतुल मजालिस)*

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.