Islamic Blog

Islamic Updates




allah2
Islamic Knowledge

*हजरत बायजीद बुस्तामी पर इमाम जाफर सादीक रदियल्लाहु की निगाहे करम…*

1f496💖1f496💖 *::::::::::::::::::::::::::::::::* 1f496💖1f496💖
*हजरत बायजीद बुस्तामी पर इमाम जाफर सादीक रदियल्लाहु की निगाहे करम…*
1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹1f339🌹

✍ *सुल्तानुल आरेफीन हजरत बायजीद बुस्तामी रहमतुल्लाह अलयही ने एक सौ तेरह (113) मशायख की खिदमत कि लेकिन वली मक्सुद की निशानदेही कीसी से ना हुइ, जिस बुजुर्ग से इस्तअदा (दरखवास्त) करते थे वो यही केहते थे की ए तैफुर (आप का लकब है) तुम जो कुछ केहते हो हमारी समझ मे नही आता,*

*आखिर जब हजरत इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु के पास जा कर मक्सुद तलब कीया तो इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु ने फरमाया की ए तैफुर ये दौलत तुम को हमारे ही खानदान से मीलेगी चुनान्चे ख्वाजा बायजीद बुस्तामी रहमतुल्लाह अलयही ने बारह साल (12 साल) इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु की खिदमत मे रेहकर फरासी (यानी की जा रोब कसी, घर की खिदमत की झाडु पोछा करना ) के फराइज अन्जाम दीये*

*एक दफअ इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु ने फरमाया की तैफुर ! मेरे सिरहाने की तरफ जो ताक है उस मे एक कागज पडा है, वो ले आओ. ख्वाजा बायजीद बुस्तामी ने जवाब दिया की आप के सिरहाने की तरफ कोइ ताक भी है ?!!*

*इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु ने फरमाया सुब्हान अल्लाह !! तुम ने इस घर की (फरासी) खिदमत की है अब तक ये भी मालूम नही की ताक कहाँ है.*

*हजरत बायजीद बुस्तामी रहमतुल्लाह अलयही ने जवाब दिया की अय फरजंदे रसुल ! मुजे तो उस शख्स पर तअज्जुब आता है की आप की खिदमत करे ओर दाए बाए की खबरे रखता हो. इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहु अन्हु ने फरमाया की अब बुस्ताम चले जाओ मैने तुम्हारा काम कर दिया है.*

*सुल्तानुल आरेफीन हजरत बायजीद बुस्तामी रहमतुल्लाह अलयही की सारी बुजुर्गी उस एक नजर से थी.*

1f4da📚 *( शरहे जवामीउल कलम मल्फुजाते हजरत सय्यद ख्वाजा बंदा नवाज गेसु दराज रहमतुल्लाह अलयही सफ्हा : 339 )*

*(बंदा रियाजत मुझाहीदात करके थक जाये तब भी उस मन्सब व मरतबे तो नही पहोंच सकता जहां पर आले रसुल एक नजर मे पहुंचा देते है. ये तो निगाहे करम की बात है जब शख्स अदब व एहतराम आजीजी इन्केसारी साथ एहलेबैत, आले रसुल से पेश आता है तो वो यहां से वो दौलत पाता जो दुनिया मे कही भी नही)*

1f497💗 *तालीबे दुआ*
*खाक पा ए गौषे आजम दस्तगीर*
*परवेज आलम कादरी*

*।«««::::::::::···················::::::::::»»»।*

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.