Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Information

हुजूर ﷺ के मुअ्ज़िजात

[ हुजूर ﷺका पसीना मुबारक ]

हज़रत अनस رضي الله عنه फर्माते हैं एक दिन रसूलुल्लाह ﷺ हमारे यहाँ तशरीफ लाए और क़ैलूला फर्माया , जब आप ﷺ को पसीना आया तो मेरी वालिदा एक शीशी लाईं और पसीना पोंछ कर जमा करनें लगीं , इस दौरान आप ﷺ की आँख खुल गई, आप ﷺ ने पूछा

:- उम्मे सुलैम ..! तुम यह क्या कर कही हो ..?

उन्होंने अर्ज किया :- या रसूलुल्लाह ﷺ मैं आप के पसीने को जमा कर रही हूं , ताकी हम इसे खुशबू के तौर पर इस्तेमाल करें..।”

( मुस्लिम शरीफ : 6055 )

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

[ एक प्याला दूध सब के लिये काफी हो गया ]

हज़रत अली رضي الله عنه रिवायत करते हैं के अब्दुल मुत्तलिब के खानदान में चालीस आदमी थे ..। एक मर्तबा आप ﷺ ने उन की दावत की, उन में कुछ लोग तो इतने मज़बूत थे के अकेले ही पूरी बकरी खा जाता और आठ सेर दूध पी जाता था….! आप ﷺ ने एक साअ आटा और बकरी का एक पैर पकवाया , उसी में उन सब ने पेट भर कर खाया और रोटी बची रही , फिर आप ﷺ ने तीन चार आदमियों के पीने लाएक एक बडे प्याले में दूध मंगाया और सब को बुलाया , उन तमाम लोगों ने दूध सैर हो कर पिया , फिर भी पूरा दूध बच गया , ऐसा मालूम होता था के किसीने पिया ही नहीं ….।

( बैहकी फी दलाइलिन्नुबुव्वह : 485 )

[ हुजूर ﷺ का कुफ्फार के दर्मियान से गुज़र जाना ]

जिस रात रसूलुल्लाह ﷺ ने हिजरत फर्माई थी, उस रात हुजूर ﷺ ने अपने बिस्तर पर हज़रत अली رضي الله عنه को सुला दिया और एक बर्तन में मिट्टी ले कर आप ﷺ बाहर तशरीफ लाए और सूरह यासीन पढ़ते गए और कुफ्फार की तरफ मिट्टी फेंकते गए और उन के बीच से गुज़र गए और उन को पता तक न चला …।

[ बैहकी फी दलाइलिन्नुबुव्वह : 728 ]

🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊

सुभान अल्लाह 📿 माशा अल्लाह 📿 अल्लाहु अकबर

Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.