Islamic Blog

Islamic Updates




Month: November 2017

दहेज_के_खिलाफ_आगाज।

अगर आप दहेज देकर बेटी की शादी कर रहे हैं तो यक़ीन मानिए आप अपनी बेटी के लिए सौहर नहीं ग़ुलाम ढूँढ रहे हैं, अगर आप दहेज लेकर अपने बेटे को बेच रहे हैं तो यक़ीन मानिए आप अपने बेटे…

DAULAT AUR HUSN KE SABAB NIKAH NA KARO

Nabi-E-Kareem Raoofur Raheem (Sallallaho Alayhi Wasallam) Ne Irshad Farmaya: “Aurato Se Unke Husn Ke Sabab Shaadi Na Karo Ho Sakta Hai Uska Husn Tumhe Tabah KardeNa Uske Maal Ki Wajahse Shaadi Karo Ho Sakta Hai Ke Unka Maal Tumhe Gunaho…

KHWATEEN KI ZEBO ZEENAT

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्रहीम •┈┈┈┈••✦✿✦••┈┈┈┈• ✿KHWATEEN KI ZEBO ZEENAT✿ ❥ ✦❥ ✦❥✦❥ ✦❥ Part~ 49 ✿❀✿❀✿❀✿❀✿❀✿❀✿❀✿❀✿ ☞ Baal Kaatne Ke Sacienci Nuqsaan, •┈┈┈┈••✦✿✦••┈┈┈┈• ☞ Baal kaatne ke scienci Nuqsanat:_ ✿ Hakeem Tariq Mehmood chugtayi is silsile me tehreer karte hai:_ “islami tarze muashrat…

अगर पत्नियां बुरी होती है तो लोग शादी क्यों करते हैं ?

अगर पत्नियां बुरी होती है तो लोग शादी क्यों करते हैं ? अक्सर शादी शुदा लोग कहते हैं कि हम शादी करके फंस गए हैं, तू मत फंसना. पत्नियां बुरी होती हैं, बेकार होती हैं, पति पर शक करती हैं,…

शोहर ने अपनी बीवी के चेहरे को गौर से देखा

शोहर ने अपनी बीवी के चेहरे को गौर से देखा, उसकी प्यारी सी और नर्म व नाजूक शक्ल पर काफी देर गौर करता रहा, फिर शोहर ने अपने आप से कहा: ” क्या मिस्कीन होती है यू औरत भी, बरसो…

Ek beti apme shohar se na eqtillafi ki wajah se

Assalamu Alaikum………..♥♥♥♥ Ek beti apme shohar se na eqtillafi ki wajah se apne maeke aa gayi. Aour jab yeh baat us ladki ke walda ko pata chali to wo bohot dukh ke sath apni beti ko gale lagay aour pass…

WASTE TAULID FARZAND ( LADKA ) AULAD KE LIYE AMAL

WASTE TAULID FARZAND ( LADKA ) AULAD KE LIYE AMAL Makaaramul Ikhlaq Mein Hazrat Imam Muhammad Baqar Radiallahu Anhu Se Manqool Hai Nabi ( Sallalahu Alaihi Wasallam ) Ne Farmaya Ki Jab Kisi Ki Aurat Hamilah ( Pregnant ) Ho…

Maine Mard ka Insaf

Maine Mard ka Insaf tab Mehos Kiya Jab wo apni Biwi bachon ke liye kuch laya to maa behn ke liye bhi Tohfa laya . Maine Mard Ka Tahafuz tab Dekha jb Road cross krty hue usne apne sath chalti…

ईमान 60 से ज़्यादा शाखों पर मुश्तमिल है

* ईमान 60 से ज़्यादा शाखों पर मुश्तमिल है और हया ईमान की एक शाख है * हया में बेहतरी ही बेहतरी है * हया ईमान से है और ईमान जन्नत में और बेहूदगी जफा से है और जफा जहन्नम…