Islamic Blog

Islamic Updates




Month: March 2022

Islamic Festivals Islamic Information shab-e-baraat

शब ए बारात की रात में क्या पढ़े| 2022 शब ए बरात का रोज़ा कब रखते है|

                          शब-ए-बारात का रोजा कब है?      हिजरी कैलेंडर के अनुसार माह शबन की 14वी तारीख को शब-ए-बारात होता है, 15वी तारीख को कुछ लोग रोजा रखता…

islamic duniyan Islamic Festivals shab-e-baraat

Shab-E-Barat Ki Fazilat(शाबान बरक़त वाली रात)

शब्-ए -बरात बेशुमार हैं शब् -ए-बरात यानि 15th शाबान में बख्शीश व मगफिरत वाली रात हैं हुजूरे पाक ने क़ुरआन में इरशाद फ्रमाया कि. शाबान की रात मैं आसमान दुनिया पर तजल्ली फरमाता है और कबीला बनी कल्ब की तमाम…

islamic duniyan Islamic Knowledge shab-e-baraat

शब ए बारात की नमाज और सलामत तस्बीह (हिंदी)

                                                         -शब-ए-बरात के नवाफ़िल और सलातुत तस्‍बीह- शब-ए-बरात पर लोग जितनी नवाफिल नमाज़…

islamic duniyan Islamic Festivals shab-e-baraat

Shab E Barat 2022: इबादत की रात शब-ए-बारात, जानिए कब और कैसे मनाया जाता है|

शब्-ए-बरात की रात मुस्लिम समाज के लोग मस्जिदों और कब्रिस्तानों में अपने और पूर्वजों के लिए अल्लाह से इबादत करते है|     मुस्लिम समुदाय के लिए शब-ए-बारात (Shab-E-Barat 2022 ) एक प्रमुख त्योहार है। इस्लामिक उर्दू कैलेंडर के अनुसार शब-ए- …

islamic duniyan shab-e-baraat

शब-ए-बारात 2022 (SHAB-E-BARAT FESTIVAL)

शब-ए-बारात – शब-ए-बारात का पर्व मुस्लिमों द्वारा मनाये जाने वाले प्रमुख पर्वों में से एक है। ईस्लामिक उर्दू कैलेंडर के अनुसार यह पर्व शाबान महीनें की 14 तारीख को सूरज डूबने के बाद शुरु होती है और शाबान माह के…

Islamic Festivals Islamic History shab-e-baraat

शब् बरात के बारे मे कुछ जरुरी बातें |

शब-ए-बारात दो शब्दों, शब[1] और बारात [2]से मिलकर बना है, जहाँ शब का अर्थ रात होता है वहीं बारात का मतलब बरी होना होता है। इस्लामी उर्दू कैलेंडर के अनुसार यह रात साल में एक बार शाबान महीने की 14 तारीख के सूरज डूबने के…

Shab E Barat Kya Hai

Shab-e-Baraat – Gunnahon Se Tauba Karne Wali Raat SHAB-E-BARAT Gunahon per nadamat aur Duaon ki qabuliat ke qeemti lamhat Quran Majid main Irshad-E-Bari Ta’ala hai:” Is raat main her hikmat wala kaam hamaray (Allah Ta’ala ke) samne peish ho kar…