Islamic Blog

Islamic Updates




Islam

Eid E Milad Un Nabi Salllaho Aliahe Wasallam Ka Saboot

मिलादुन्नबी मनाने का सबूत
*1 – Sureh Yunus Aayat No.58* .
अनुवाद – ” आप अल्लाह की कृपा और उसकी दया कहते हैं और आपको खुश होना चाहिए ”
*2 – Sureh Ambiya Aayat No.107.*
Tarjuma – “Aur Humne Tumhe’n Na Bheja Magar Rehmat Saare Jahaan Keliye”.
नोट :- अल्लाह ताला आपको मेरी कृपा और दया पर खुश रहने का आदेश दे रहा है और अल्लाह की सबसे बड़ी कृपा हमारे प्यारे पैगंबर लाये लाये wslm है, जिस दिन हमारे प्यारे पैगंबर लाये लाये लाये wslm इस दुनिया में खुशी मना रहे हैं उस दिन कुरान ने साबित किया है, और अगर कोई साले कहता है कि पैगंबर (PBUH) ने इसका जश्न क्यों नहीं मनाया, तो जवाब यह है कि पैगंबर (PBUH) ने पैगंबर (PBUH) की बारात और बुखारी की बारात ली है अंत में । अहले हदीस सम्मेलन और अन्य रैली जश्न भी नहीं मनाती तो ये भी बिदत होनी चाहिए ।
मोहद्दिसिन और मुफस्सिरीन और फुकाहा और विद्वानों की आँखों में पैगंबर (PBUH) की बैठक का जश्न मनाएं
* 1-इमाम जलालुद्दीन सुयुती रहमतुल्लाह अलैह * (849 हिजरी) ने पैगंबर के उत्सव का जश्न मनाने के लिए ′′ हुस्नुल मकसद फाई अमलिल मौलिद ′′ पुस्तक कहा है… wslm
* 2-मुल्ला अली कारी रहमतुल्लाह अलैह * (1014 हिजरी) ने पैगंबर के जश्न का जश्न मनाने के लिए ′′ अल मोरिदुल रुवी फाई मौलिदिन्नाबी ′′ किताब कहा है… wslm ′′
* 3-मोहद्दिस इमाम इब्ने जाव्ज़ी रहमतुल्लाह अलैह * (510 हिजरी) ने पुस्तक ′′ इब्ने जाव्ज़ी, अल मिलादुन्नबी… wslm ′′ मिलादुन्नबी मनाने के लिए कहा है… wslm
* 4-इमाम शम्सुद्दीन अल जज़री रहमतुल्लाह अलैह * (660 हिजरी) ने मिलादुन्नबी मनाने के लिए ′′ हुस्नुल मकसीद फाई अमलिल मौलिद ′′ पुस्तक कहा है…. wslm.
* 5-शेख इमाम अबू शमा रहमतुल्लाह अलैह * (599 हिजरी) ने किताब ′′ अल बैस आला इंकारिल बड़ा वाल हवादियों ′′ और ′′ इमाम सौलीही द्वारा सुबलुल हुदा वाल रुशाद (अल्लाह उनसे खुश हो सकता है) ।
* 6-इमाम ज़ाहबी * (673 हिजरी) ने पैगंबर (PBUH) के जश्न का जश्न मनाने के लिए ′′ सियार ए ‘ लामुन नुबाला ′′ पुस्तक कहा है ।
* 7-इमाम इब्ने कसीर * (701 हिजरी) ने पैगंबर के उत्सव का जश्न मनाने के लिए ′′ अल बिदाया वान निहाया ′′ पुस्तक कहा है… wslm.
* 8-इमाम शम्सुद्दीन बिन नसीरुद्दीन दामिश्की रहमतुल्लाह अलैह * (777 हिजरी) ने पैगंबर (PBUH) के जश्न मनाने का तरीका कहा है अपनी किताब ′′ मौरीदुल सादी फाई मौलीदिल हादी में
* 9-इमाम इब्ने हजर अस्कलानी रहमतुल्लाह अलैह * (773 हिजरी) ने पैगम्बर को मनाने के लिए ′′ सुयूटी – हुस्नुल मकसद फाई अमलिल मौलिद ′′ पुस्तक कहा है ।
* 10-इमाम शम्सुद्दीन अल सखावी (831 हिजरी) ने पैगंबर के जश्न का जश्न मनाने के लिए इमाम सालेह रहमतुल्लाह अलैह द्वारा पुस्तक ′′ सुबलुल हुदा वाल रुशाद ′′ कहा है ।
* 11-इमाम कस्तलानी रहमतुल्लाह अलैह * (851 हिजरी) ने कहा है कि पैगंबर के उत्सव मनाने के लिए ′′ अल मवाहिबुल लादुनिया ′′ पुस्तक में… wslm.
* 12-इमाम क़ुतुबुद्दीन हनफ़ी रहमतुल्लाह अलैह * (988 हिजरी) ने मिलादुन्नबी के जश्न का जश्न मनाने के लिए पुस्तक ′′ अल आलम ए बैतिलाहिल हरम ′′ कहा है… wslm.
* 13-इमाम इब्ने हजर मक्की रहमतुल्लाह अलैह * (909 हिजरी) ने पैगंबर (PBUH) के जश्न का जश्न मनाने के लिए ′′ फटावा हदीसिया ′′ पुस्तक कहा है ।
* 14-शेख अब्दुल हक मोहद्दिस ए दहेलवी रहमतुल्लाह अलैह * (958 हिजरी) ने पैगंबर (PBUH) के उत्सव मनाने के लिए पुस्तक ′′ मा सबत मिनास सुन्नाह ′′ कहा है ।
* 15. इमाम ज़रकानी रहमतुल्लाह अलैह * (1055 हिजरी) ने पैगंबर के उत्सव का जश्न मनाने के लिए ′′ शराह मवाहिबुल लादुनिया ′′ पुस्तक कहा है… wslm.
* 16. हजरत शाह अब्दुर रहीम दहेलवी रहमतुल्लाह अलैह * ने पैगंबर के उत्सव का जश्न मनाने के लिए ′′ अल दुर्रुस समीन ′′ पुस्तक कहा है… wslm.
* 17-शाह वालियुल्लाह मोहद्दिस ए दहेलवी रहमतुल्लाह अलैह * (1174 हिजरी) ने कहा है कि वह पैगंबर (PBUH) के उत्सव को ′′ फुयुजुल हरमैन ′′ पुस्तक में मनाने जा रहे हैं
* 18-हाजी इमदादुल्लाह मुहाजिर मक्की * (1233 हिजरी) ने किताब ′′ शमा ‘ इमदादिया और हाफ्ट मास ‘ आला ‘ का निर्णय पैगंबर के जश्न मनाने के लिए कहा है… wslm.
* 19-मौलाना अब्दुल हे लखनावी * (1264 हिजरी) ने मिलादुन्नबी मनाने के लिए पुस्तक ′′ फटावा अब्दुल हे ′′ कहा है.
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.