Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Information

Islamic Information

SHARAB / Beer ka Gunah

Afsos hai ki kuch muslim bhai beer ko sharab nahi samajhte. Aur naa-daani mein beer ko cold drink ki tarah pi lete hain. Lekin bhaiyo dhyan rakho ke beer bhi sharba hi hai. aur Islam mein sharab peena haram hai….

जानदार बदनकी आफ्ते

हज़रत सैयदुल मुआज़ राज़ी रहमतुल्लाह तआला अलैहि फरमाते हे के 👇🏻👇🏻👇🏻 जो पेट भरकर खाना खानेका आदी हो जाता हे तो👇🏻 ❀1❀ उसके बदनका गोस्त बढ़ जाता हे ❀2❀ वो शहवत परस्त हो जाता हे ❀3❀ उसके गुनाह बढ़ जाते…

सलीक ए ज़िंदगी

#उन_चीज़ों_का_बयान_जिनसे_मोहताजी_और #तंगदसती_आती_है ● गुनाहों में मुब्तिला रहना। ● ज़िना करना। ● झूट बोलना। ● झूटी कसमें खाना। ● बरहना (नंगे) पेशाब करना। ● रात में झाडू देना। ●बगैर हाथ , मुँह धोए हालते जनाबत (नापाकी की हालत) में खाना। ●…

Bachhe ko Dudh Pilane Ka Swab

*बच्चे को दूध पिलाने का सबाब* बच्चे की दूध की हर चुस्की के बदले मां को एक ग़ुलाम आज़ाद करने का सवाब मिलता है और जब वो उसका दूध छुड़ाती है तो ग़ैब से निदा आती है कि ऐ औरत…

Bismillah Hir Rahman ir Rahim Ki Barkat

क़ुरान शरीफ की हर आयत में शिफा व रहमत हैं, मोमिनो को चाहिए की इस से फैज़ हासिल करे। बहरहाल बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़ने,किसी पर दम करने के क्या फायदे हैं उसके बारे में बात करते हैं। 1.जब कोई परेशानी या…

Napaki Ki Halat Me Kya Haram Hai

*नापाकी के हालत मे कौन सी बाते हराम है!* जिस को नहाने (गुस्ल) की जरुरत हो, उसको मस्जीद मे जाना, काबा का तवाफ करना, कुरआन ए करीम को छुना, बे देखे या जुबानी पढना, या किसी आयत का लिखना, या…

Shirk Kise Kehte Hai

*Shirk Ki Sirf 3 Qisme Hai* *1- Shirk Fizzaat :–* 1 Se Zayaada Khuda Maanna Ya Kisi Ko Khuda Ke Jaisa Maanna Jaise Majoosi 2 Khuda Maante Hai Ek Khaaliq e Sharr Aur Doosra Khaaliq e Khair Aur Mushrikeen To…

Masjid Tiban, Malang

1991-में सिर्फ एक रात में बन कर तैय्यार होने वाली मस्जिद-ख़ुबसुरती ऐसी के आंखें ख़ुली रह जाए..!! क्या जिन्नात या जिन नाम की कोई चीज़ होती है क्या जिन्न के अन्दर इतनी शक्ति होती है अगर जिन्न होते हैं तो…

अक़ीक़ा | Aqiqah

The Dua for aqeeqa is (if the baby is a boy): ‘Allahumma Hazihi Aqqeeqatu ____________ (call the child’s name). Damuha bi Damihi, Wa Lahmuha bi Lahmihi, Wa Adhmuha bi Adhmihi, Wa Jilduha bi Jildihi wa Sha’ruha bi Sha’rihi’ If the…

अक़ीक़ा के मसाइल , Aqiqah Ka Masail

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمنِ الرَّحِيْم اَلْحَمْدُ لِلّهِ رَبِّ الْعَالَمِيْن،وَالصَّلاۃ وَالسَّلامُ عَلَی النَّبِیِّ الْکَرِيم وَعَلیٰ آله وَاَصْحَابه اَجْمَعِيْن۔ अक़ीक़ा के मसाइल अक़ीक़ा के मानी काटने के हैं। शरई इस्तिलाह में नौमौलूद बच्चा/बच्ची की जानिब से उसकी पैदाइश के सातवें दिन जो खून…