Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Knowledge

रूह खुश हो जायेगी

हुजुर सल्लल्लाहो अलेही व सल्लम के वालिद हज़रत अब्दुल्ला आपको अम्मा हज़रत आमना के पेट में ही छोड़कर दूनियाँ से रुखसत हो गये सय्यदा आमना खातून अपनी जिन्दगी बसर कर रही हे हज़रत की दादी ने हज़रत के दादा को…

दिलचस्प और अनमोल कुरआनी मालूमात

दिलचस्प और अनमोल कुरआनी मालूमात !! ✨===✨ कुरआन मुक़द्दस में हर चीज का बयान मौजूद है लेकिन नीचे बताये हुए नाम क़ुरान में सराहत और स्पष्ट में ज़िक्र किए गए हैँ. और वह नाम यह हैँ , © कुरआन मजीद…

Aurat ko Masjid me Eytikaaf Makrooh hai

Aurat ko Masjid me Eytikaaf Makrooh hai. Balke wo Ghar me hi Eytikaaf kare. Magr us jagah karen jo jagah usne Namaaz padhne ke liye muqarrar kar rakhi hai. Jise “” Masjide Bait 🏠“” kehte hain. Aur aurton ke liye ye…

हाय काश में मिट्टी हो जाता

इंसान की ज़िन्दगी ख्वाहिशात, आरज़ूओं, और उम्मीदों के पीछे भागने का एक #सिलसिला ही बन चुकी है और वो इसमें भूल चूका है की उसका एक मक़सद भी है, एक इंतेहा भी है, एक #इब्तिदा भी है और एक मंज़िल…

खिलाफते सिद्दीक़ ए अकबर

(हिस्सा 1) _*ⓩ अहले सुन्नत व जमाअत का इस बात पर इज्माअ है कि अम्बिया अलैहिस्सलातो वत्तसलीम के बाद ज़मीन पर सबसे बड़ा मर्तबा अगर किसी का है तो वो है सिद्दीक़े अकबर का फिर फारूक़े आज़म का फिर उसमान…

मेरे अब्बू सबसे अच्छे हैं

जब में चार साल का था… मेरे अब्बू सबसे अच्छे हैं…। जब मैं छः साल का था… लगता है मेरे अब्बू सब कुछ जानते हैं…। जब मैं दस साल का था… मेरे अब्बू बहुत अच्छे हैं, लेकिन बस ज़रा ग़ुस्से…

21 Ramzan Shahadat Hazrat Ali- كرم الله وجه كريم

Shaan e Maula Ali Muskhil Kusha Ko Bayan Karna Is Na cheez Gunahgaar Ki Itni Aukat Nahi. Aapki Gulami Ka Saboot Dete Hue Ek Adna Si Koshish Kar Raha Hoon. Agar Koi Khata Ho To Muaf Farmaye Maula Ali Ki…

HAS’R KA BAYAN

#KANZUL_IMAAN – Aur hargiz ALLAH ko be khabar na jaanna zaalimo ke kaam se,unhein dheel nahin de raha hai magar aise din ke liye jisme.unki aankhen khuli ki khuli rah jayengi apne sar uthaye hue ki unki palak unki taraf lautti…

हज़रत अली की वफ़ात का दिन

आपकी पैदाइश 13 रजब(15 सितबर 601)और वफ़ात 21 रमज़ान(29 जनवरी 661)को हुई है।। आप रसूले अकरम ﷺ के चचेरे भाई और दामाद थे,और आप हज़रत अली के नाम से मशहूर है।आप इस्लामी तारीख के चौथे खलीफा हुए है। जैसा कि…

कोरोना वायरस

सुन्नते रसूल ﷺ और इस्लामी तारीख में कोरोना वायरस जैसी खतरनाक वबा की कोई मिसाल (इस हवाले से कि ये महज़ छूने से भी फैलती है) नहीं मिलती लेकिन कुछ ऐसे ही मौक़ों से ताल्लुक़ रखने वाले वाक़िआत पर गौरो फिक्र…