Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Knowledge

वो बूत परस्त था फिर मुसलमान हो गया

हज़रत ईब्राहीम अलैहिस्सलाम की आदत थी की वो मेहमान के बगैर खाना नहीं खाते थे, (और जो खाना मेहमान के साथ खाया जाये उसका हिसाब भी नहीं होता ) एक दिन भूख लगी घरवालों को खाना पकाने का कहा और…

यज़ीद की शख्सियत

इमाम इब्ने कसीर अपनी तारिख (इतिहास) की किताब अल बिदाया वन निहाया में नक़ल करते है: इब्ने जुबैर رضی اﷲ تعالیٰ عنہنّ से रिवायत है की वो फरमाते है : ऐ लोगो तुम्हारे साथी कतल हो गए . यजीद ने…

Wazu Ka Tarika

Wazu k Tariqa: 1.) Ya Allah niyat karta hu mai wazu ki paki hasil karne k liye. 2.) Bismillahil Azeme WAl hamdulilahil Ala Denil islam. 3.) Darood Sharif padhe sallallahu tala Ala Mohammad. 4.) phir kalma ye sa-hadat padhe. 5.)…

Islamic Knowledge

Agar Koi Roza Na Rakh Paya Ho

Agar koi bimari ya budhape ki wajah se ramzan ke roze na rakh paya aur aage bhi uske accha hone ya kamzori door hone ki ummid nahi hai to usko chahiye ke har roze ka ‘fidya’ ada kare, matlab har…

सूरए आले इमरान- ग्यारहवाँ रूकू

अल्लाह के नाम से शुरु जो बहुत मेहरबान रहमत वाला, ऐ ईमान वालो, अल्लाह से डरो जैसा उससे डरने का हक़ है और कभी न मरना मगर मुसलमान (102) और अल्लाह की रस्सी मज़बूत थाम लो (1)सब मिलकर और आपस…

24 JILHAJJ NOOZULE AYATE MUBAHILA

*Mubahle ka Waqiya aur Aayat-e-Mubahla Gawah hai ke jo bhi Allah Rasool SAW aur Ahle Bayt Pak ke khilaf jayega wo jhoota hai!!* Alaihim Afdalus Salawatu was Salaam “Phir Aye Mehboob, Jo Tum Se Isaa k Baare Me Huzzat Kare…

रूह खुश हो जायेगी

हुजुर सल्लल्लाहो अलेही व सल्लम के वालिद हज़रत अब्दुल्ला आपको अम्मा हज़रत आमना के पेट में ही छोड़कर दूनियाँ से रुखसत हो गये सय्यदा आमना खातून अपनी जिन्दगी बसर कर रही हे हज़रत की दादी ने हज़रत के दादा को…

दिलचस्प और अनमोल कुरआनी मालूमात

दिलचस्प और अनमोल कुरआनी मालूमात !! ✨===✨ कुरआन मुक़द्दस में हर चीज का बयान मौजूद है लेकिन नीचे बताये हुए नाम क़ुरान में सराहत और स्पष्ट में ज़िक्र किए गए हैँ. और वह नाम यह हैँ , © कुरआन मजीद…

Aurat ko Masjid me Eytikaaf Makrooh hai

Aurat ko Masjid me Eytikaaf Makrooh hai. Balke wo Ghar me hi Eytikaaf kare. Magr us jagah karen jo jagah usne Namaaz padhne ke liye muqarrar kar rakhi hai. Jise “” Masjide Bait 🏠“” kehte hain. Aur aurton ke liye ye…

हाय काश में मिट्टी हो जाता

इंसान की ज़िन्दगी ख्वाहिशात, आरज़ूओं, और उम्मीदों के पीछे भागने का एक #सिलसिला ही बन चुकी है और वो इसमें भूल चूका है की उसका एक मक़सद भी है, एक इंतेहा भी है, एक #इब्तिदा भी है और एक मंज़िल…