Islamic Blog

Islamic Updates




Hadith

jisne 3 din se ziyada apne bhai ko chorh diya

BismillahirRahmanirRahim

✦ Hadith : jisne 3 din se ziyada apne bhai ko chorh diya (yani us se naraz raha ) aur mar gaya to wo dozakh mein dakhil hoga
————
✦ Hazrat Abu Hurairah Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah SallallahuAlalhi wasallam ne farmaya ki kisi Momeen ke liye ye jayez nahi ki dusrey momeen ko 3 din se ziyada chodh de (yani naraz rahey) , agar 3 din guzar jaye to wo us sey miley aur salam karey agar usney salam ka jawab diya to sawab mein dono sharik ho gaye aur agar salam ka jawab nahi diya to wo (jawab na dene wala) sara gunaah le gaya.
Sunan Abu Dawud, Jild 3, 1481-Sahih

✦ Abu Hurairah Radi allahu anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah SallallahuAlalhi wasallam ne farmaya kisi musalman ke liye ye jayez nahi ki apne bhai ko 3 din se ziyada chor de ( yani us sey naraz rahe) jisne 3 din se ziyada chorh diya aur mar gaya to wo dozakh mein dakhil hoga.
Sunan Abu Dawud, Jild 3, 1483-Sahih

✦ Abu hurairah Radi allahu anhu se rivayat hai Rasool-Allah sallallahu alaihi wasallam ne farmaya Jannat ke darwaze Peer(Monday) aur jumairat (Thursday )ke din khole jate hain, phir har us bande ki maghfirat hoti hai jo Allah taala ke saath shirk nahi karta aur siwaye us shaksh ke jo keena rakhta hai apne bhai se (uski maghfirat nahi hoti ) aur hukm hota hai in dono ko dekhte raho jab tak ki mil jaye, in dono ko dekhte raho jab tak ki mil jaye,in dono ko dekhte raho jab tak ki mil jaye
Sahih Muslim, Vol 6, 6544
————
✦ हज़रत अबू हुरैरा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया की किसी मोमीन के लिए ये जायज़ नही की दूसरे मोमीन को 3 दिन से ज़्यादा छोड़ दे (यानी नाराज़ रहे) , अगर 3 दिन गुज़र जाए तो वो उस से मिले और सलाम करे अगर उसने सलाम का जवाब दिया तो सवाब में दोनो शरीक हो गये और अगर सलाम का जवाब नही दिया तो वो (जवाब ना देने वाला) सारा गुनाह ले गया.
सुनन अबू दाऊद, जिल्द 3, 1481-सही

✦ अबू हुरैरा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया किसी मुसलमान के लिए ये जायज़ नही की अपने भाई को 3 दिन से ज़्यादा छोड़ दे ( यानी उस से नाराज़ रहे) जिसने 3 दिन से ज़्यादा छोड़ दिया और मर गया तो वो दोज़ख में दाखिल होगा
सुनन अबू दाऊद, जिल्द 3,1483-सही

✦ अबू हुरैरा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है रसूल-अल्लाह सललल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया जन्नत के दरवाज़े पीर (सोमवार) और जुमेरात (गुरुवार )के दिन खोले जाते हैं, फिर हर उस बंदे की मगफीरत हो जाती है जो अल्लाह ताला के साथ शिर्क नही करता और सिवाए उस शख्स के जो कीना रखता है अपने भाई से (उसकी मगफीरत नही होती ) और हुक्म होता है इन दोनो को देखते रहो जब तक की मिल जाए, इन दोनो को देखते रहो जब तक की मिल जाए, इन दोनो को देखते रहो जब तक की मिल जाए
सही मुस्लिम, जिल्द 6, 6544

Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.