Islamic Blog

Islamic Updates




Hadith

jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya

Bismillahirrahmanirrahim

✦ Hadith: jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya
——————
✦ Abu darda Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki mere mehboob Sallallahu Alaihi wasallam ne mujhe waseeyat farmayee ki Allah ke saath kisi ko sharik na karna chahe tumhare tukde tukde kar diye jaye ya tumhe aag mein jala diya jaye Aur farz namaz ko jaan bujh kar kabhi mat chorhna kyunki jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya (yani ab wo Allah ki panah mein nahi) aur sharab na peena kyunki sharab har burayee ki kunji (key) hai
Sunan Ibn Maja, Jild 3, 915-Hasan

✦ Beshak Namaz apne muqarrar waqto mein momeeno par farz hai
Al Quran : Surah An-Nisa (4) , #103

✦ Hadith: Abdullah bin buraidah Radi-Allahu-Anhu ne apney walid se rivayat kiya ki Rasool-Allah Sallallhu-Alaihi-Wasallam ne farmaya Hamare aur unke (munafiqon ke) darmiyan Ahad Namaz hai to jisne Namaz ko chorh de usney kufr kiya.
Sunan Ibn Majah, jild 1 , # 1079 -Sahih)
——————
✦ अबू दर्दा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की मेरे मेहबूब सलअल्लाहु अलैही वसल्लम ने मुझे वसीयत फरमाई की अल्लाह के साथ किसी को शरीक ना करना चाहे तुम्हारे टुकड़े टुकड़े कर दिए जाए या तुम्हे आग में जला दिया जाए और फ़र्ज़ नमाज़ को जान बुझ कर कभी मत छोड़ना क्यूंकी जो जानबूझ कर फ़र्ज़ नमाज़ छोड़ दे तो अल्लाह के ज़िम्मे से बरी हो गया (यानी अब वो अल्लाह की पनाह में नही) और शराब ना पीना क्यूंकी शराब हर बुराई की कुंजी (चाबी) है
सुनन इब्न माज़ा, जिल्द 3, 915-हसन

✦ अल क़ुरान : बेशक नमाज़ अपने मुक़र्रर वक्तो में मोमीनो पर फ़र्ज़ है
सुरह अन निसा (4) आयत 103

✦ हदीस: अब्दुल्लाह बिन बुरैदा रदी-अल्लाहू-अन्हु ने अपने वालिद से रिवायत किया की रसूल-अल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया हमारे और उनके मुनाफिकों के) दरमियान अहद नमाज़ है तो जिसने नमाज़ को छोड़ दिया उसने कुफ्र किया.
सुनन इब्न माज़ा, जिल्द 1 , 1079 -सही

As-salam-o-alaikum my selfshaheel Khan from india , Kolkatamiss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.
mm
mm
As-salam-o-alaikum my self shaheel Khan from india , Kolkata miss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.