Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Knowledge

MAA KI DUA KA ASAR

HIQAYAT:-

Salim Ibne Ayyub Farmate Hain! Main 10 Baras Ka Tha, Aur Mujhse Sur-A-Fateha Tak Nahi Padhi

Jati Thi! To Baaz Mashayik Ne Mujhse Farmaya Ki Tu Apni Maa Se Ilteja Ker Ki Wo Tere Liya

Quraan Aur Ilm Keliye Dua Kare! Maine Apne Ilm Keliye Dua Karayi! Ibne Subki Farmate Hain,

Maa Ki Dua Ka Asar Aisa Hua Ki Hazrat Salim Ibne Ayyub Aise Zabardast Aalim Hue Ki Koi

Aalim Unka Laga Na Khaata Tha Aur Wo Goya Aise Sawaar The Ki Koi Inki Gardh Na Paata Aur 

Nishaan-A-Kadam Tak Na Pahuch Sakta Tha!

>Nujjahtul-Majalis, Babul-Walidain, Jild-1, Pg-166

SABAK:-

Maa Ka Bahoat Bada Darja Hain! Maa Ki Dua Apne Bacchon Keliye Dilse Nikalti Hain! Isiliye Ba-Qaul-A-Shayer-

“Baat Jo Dilse Nikalti Hain Asar Rakhti Hain”
Maa Ki Dua Maqbool Hoti Hain, Sur-A-Fateha Tak Na Padh Sakne Wala Maa Ki Dua Se Jalilul-Qadr Aur Be-Nazir Aalim Bangaya, Lekin Yeh Maa Pehle Zamane Ki Maa Thi Aur Aajkal Ki Modern Maayen Dua Maangti Hain Ki Munna Bada Hoker Koi Bada Afsar Bane, Thanedar Bane Aur Angrez Nazar Aaye, Angrezi Bole! Goya Mera Yeh Phool Bada Hoker Mujhe Phool Samjhe!
Musalman Maa Aur Modern Maa Ka Fark Mulahiza Farmayiye-
Wo Maa Thi Ghar Ki Deewaron Ki Raunak,
Yeh Maa Banti Hain Baazaron Ki Raunak!
Wo Maa To Paida Karti Thi Namazi,
Dhani Talwar Ka Maidaan Ka Gaazi!
Yeh Maa Jisko Kaha Jata Hain Lady,
Yeh Maa Agar Paida Karti Hain To Teddy!

$ माँ  की  दुआ  का  असर$

हिकायत :-

सलीम  इबने  अय्यूब  फरमाते  हैं ! मैं  10 बरस  का  था , और  मुझ से  सुर -ए-फतेह  तक  नहीं  पढ़ी  जाती  थी !
 तो  बाज़  माशायिक  ने  मुझ से  फ़रमाया  की  तू  अपनी  माँ  से  इल्तेजा  केर की  वो  तेरे  लिया  क़ुरआन  और
इल्म  के लिए  दुआ  करे ! मैंने  अपने  इल्म  के लिए  दुआ  करायी ! इबने  सबकी  फरमाते  हैं ,
माँ  की  दुआ  का  असर  ऐसा  हुआ  की  हज़रत  सलीम  इबने  अय्यूब  ऐसे  ज़बरदस्त  आलिम  हुए  की  कोई  आलिम  उनका  लगा  ना  खाता  था  और  वो  गया  ऐसे  सवार  थे
 की   कोई  इनकी  गर्द  ना  पाटा  और  निशाँ -ए -कदम  तक  ना  पहुंच  सकता  था !
>Nujjahtul-Majalis, Babul-Walidain, Jild-1, Pg-166

सबक :-

माँ  का  बहोट  बड़ा  दर्जा  हैं ! माँ  की  दुआ  अपने  बच्चों  के लिए  दिल से निकलती  हैं ! इसीलिए  बा -कॉल -ए -शायर –
“बात  जो  दिल से  निकलती  हैं  असर  रखती  हैं “
माँ  की  दुआ  मक़बूल  होती  हैं , सुर -ए -फतेह  तक  ना  पढ़   सकने  वाला  माँ  की  दुआ  से  जलिलुल -क़द्र  और  बे -नज़ीर  आलिम  बन गया , लेकिन  यह  माँ  पहले  ज़माने   की  माँ  थी  और  आज कल  की  मॉडर्न  माएं  दुआ  मांगती  हैं  की  मुन्ना  बड़ा  हो कर  कोई  बड़ा  अफसर  बने , थानेदार  बने  और  अँगरेज़  नज़र  आये , अंग्रेजी  बोले ! गया  मेरा  यह  फूल  बड़ा  हो कर  मुझे  फूल  समझे !
मुस्लमान  माँ  और  मॉडर्न  माँ  का  फर्क  मुलाहिज़ा  फरमाईये –
वो  माँ  थी  घर  की  दीवारों  की  रौनक ,
यह  माँ  बनती  हैं  बाज़ारों  की  रौनक !
वो  माँ  तो  पैदा  करती  थी  नमाज़ी  ,
धनि  तलवार  का  मैदान  का  गाज़ी !
यह  माँ  जिस को  कहा  जाता  हैं  लेडी ,
यह  माँ  अगर  पैदा  करती  हैं  तो  टेडी !
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.