Islamic Blog

Islamic Updates




Hadith

Mafhum-e-Hadith: jannat mein Rasool-Allah Sallallahu Alaihi wasallam ka saath

BismillahirRahmanirRahim

✦ Mafhum-e-Hadith: jannat mein Rasool-Allah Sallallahu Alaihi wasallam ka saath
—————-
✦ Rabi bin Kab al-Aslami Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki main Rasool-Allah Sal-Allahu Alaihi Wasallam ke saath raha karta tha aur main Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ke wudhu aur jaruriyat ke liye pani laata tha , ek baar Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya mujhse maang kya maangta hai ,Maine kaha ki jannat mein Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam kasaath maangta hu Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya iskey alawa aur kuch mainey kaha mujhe bas yahi chahiye , phir Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne farmaya apney liye zyada se zyada sazde karke (yani zyada Namaz paddkar ) meri madad kar
Sunan Abu Dawud, Vol 1, 1307 – Sahih

✦ Abu Hurairah Radi allahu anhu se rivayat hai ki Nabee Kareem Sallallahu alaihi wasallam ne hazrat bilal radi allahu anhu se fajar ke waqt pucha ki eh bilal mujhe apna sabse zyada ummed wala neik kaam batao jise tumne islam lane ke baad kiya hai kyunki maine jannat mein apne aage tumhare juto ki chaap (aawaz) suni hai , hazrat bilal ne arz kiya main to apne nazdeek is se zyada ummed ka koi kaam nahi kiya ki jab main raat ya din mein kisi waqt bhi wudhu karta to main us wudhu se nawafil namaz padta rahta hu , jitni meri taqdeer mein likhi gayee hai
Sahih Bukhari, Vol 2, 1149
—————-
✦ मफ्हुम ए हदीस : जन्नत में रसूल अल्लाहसल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का साथ

✦ राबी बिन काब रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की मैं रसूल अल्लाह सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम के साथ रहा करता था और मैं आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम के वुज़ू और जरूरियात के लिए पानी लाता था एक बार आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया मांग मुझसे मांग क्या मांगता है ? मैंने कहा की जन्नत में आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम का साथ मांगता हूँ आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया इसके अलावा और कुछ ? मैंने कहा की बस यही चाहिए तो फिर आप सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया अपने लिए ज्यादा से ज्यादा सजदे करके ( यानि ज्यादा से ज्यादा नमाज़ पढ़कर) मेरी मदद कर.
सुनन अबू दावूद , जिल्द-1, हदीस – 1307, सही

✦ अबू हुरैरा रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने हज़रत बिलाल रदी अल्लाहु अन्हु से फजर के वक़्त पूछा की एह बिलाल मुझे अपना सबसे ज्यादा उम्मीद वाला नेक काम बताओ जिसे तुमने इस्लाम लाने के बाद किया हो क्यूंकि मैंने जन्नत में अपने आगे तुम्हारे जूतों की आवाज़ सुनी है तो हज़रत बिलाल रदी अल्लाहु अन्हु ने अर्ज़ किया की मैंने अपने नज़दीक इस से ज्यादा उम्मीद का कोई काम नहीं किया की जब मैं रात या दिन में किसी वक़्त भी वुज़ू करता हूँ तो मैं उस वुज़ू से नवाफ़िल नमाज़ पढ़ता रहता हूँ जितनी मेरी तकदीर में लिखी गयी है
सही बुखारी , जिल्द 2. हदीस 1149

As-salam-o-alaikum my selfshaheel Khan from india , Kolkatamiss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.
mm
mm
As-salam-o-alaikum my self shaheel Khan from india , Kolkata miss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.