Islamic Blog

Islamic Updates




Dua

Maula Ya Salli Wa Sallim Naat Lyrics

Maula Ya Salli Wa Sallim Lyrics

Saher ka Wakt tha Masum kaliyan Muskurati thi
Hawaein Khair-Makhdam ke tarane gungunati thi

Abhi Jibril bhi Utre na the Kaabe ke Mimbar se
Ke Itne mein Sada aayi hai Abdullah ke Ghar se

Mubarak ho Shahe Har do sara Tashrif le aaye
Mubarak ho Muhammad Mustafa Tashrif le aaye

Maula Ya Salli wa Sallim Daeeman Abadan
Ala Habibika Khairil Khalki Kullimi

Muhammadun Sayyidun Kawnayni wa Sakalayni
Muhammadun Sayyidun Kawnayni wa Sakalayni
Wal Farikayni Min Arabiwwa Min Ajami

Na koi Aap jaisa hai na koi Aap jaisa tha
Koi Yusuf se puchhe Mustafa ka husn kaisa tha
Zameenon Aasman mein koi bhi misal na mili

Maula Ya Salli wa Sallim Daeeman Abadan
Ala Habibika Khairil Khalki Kullimi

Durud Unpar Salam Unpar yahi kehna Khuda ka hai
Khuda ke baad jo hai Martaba Salle Ala ka hai

Wahi Sardar Aalam hai Wahi Ghamkhware Ummat hai
Wahi to Hashr ke maidan mein sabki shafa’at hai
Shafa’at ke liye sabki nazar Un par lagi hogi

Maula Ya Salli wa Sallim Daeeman Abadan
Ala Habibika Khairil Khalki Kullimi

Salam Un par ke Jisne bekason ki Dastagiri ki
Salam Un pae ke Jisne Badshahi mein Fakiri ki

Salam Un par ke Jiske Ghar na chandi thi na sona tha
Salam Un par ke tuta boriya Jiska bichhona tha

Salam Aye Aamena ke Laal Aye Mehbube Sub’hani
Salam Aye Fakhre Maujudat Fakhre No-e-Insani

Teri Surat Teri Sirat Tera Naksha Tera Chalna
Tabassum Guftagu Banda Nawazi Khalkate Shani

Tera Dar ho Mera sar ho Mera Dil ho Tera Ghar ho
Tamanna Mukhtasar si hai magar Tamhid Tumhani

Maula Ya Salli wa Sallim Daeeman Abadan
Ala Habibika Khairil Khalki Kullimi

 

Maula Ya Salli Wa Sallim Naat Lyrics In Hindi

सहर का वक़्त था मासूम कलियाँ मुस्कुराती थीं

हवाएं खैर मकदम के तराने गुनगुनाती थीं

अभी जिब्रील उतरे भी न थे काबे के मिम्बर से

कि इतने में सदा आई ये अब्दुल्लाह के घर से

मुबारक हो शहे हर दो सरा तशरीफ़ ले ए

मुबारक हो मुहम्मद मुसतफ़ा तशरीफ़ ले ए

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

मुहम्मदुन सय्यिदुल कौनैनी वस सक़लैन

वल फरीकैनी मिन उरबिव व मिन अजमी

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

न कोई आप जैसा है न कोई आप जैसा था

कोई यूँ पूछे मुझसे मुस्तफा का हुस्न कैसा था

ज़मीनों आस्मां में कोई भी मिसाल न मिली

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

दुरूद उन पर सलाम उन पर यही कहना खुदा का है

खुदा के बाद जो है मरतबा सल्ले अला का है

वही सरदारे आलम हैं वही गमखारे उम्मत हैं

वो ही तो हश्र के मैदान में सब की शफाअत हैं

शफ़ाअत के लिए सब की नज़र उन पर लगी होगी

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

सलाम उस पर कि जिसने बेकसों की दस्तगीरी की

सलाम उस पर कि जिसने बादशाही में फ़क़ीरी की

सलाम उस पर जिसके घर में चांदी थी न सोना था

सलाम उस पर कि टूटा बोरिया जिसका बिछौना था

सलाम ए आमिना के लाल ए महबूबे सुबहानी

सलाम ए फ़खरे मौजूदात फ़खरे नौए इन्सानी

तेरी सूरत तेरी सीरत तेरा नक्शा तेरा जलवा

तबस्सुम गुफ्तगू बंदा नवाज़ी खंदा पेशानी

तेरा दर हो मेरा सर हो मेरा दिल हो तेरा घर हो

तमन्ना मुख़्तसर सी है मगर तम्हीद तूलानी

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

 

मुहम्मदुन सय्यिदुल कौनैनी वस सक़लैन

वल फरीकैनी मिन उरबिव व मिन अजमी

 

मौला या सल्लि व सललिम दाइमन अबदन

अला हबीबी का खैरिल खल्की कुल्लिही मी

mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.