Islamic Blog

Islamic Updates




Namaz

Musafir Ki Namaz in Hindi

Musafir Ki Namaz

*👉🏻Driver Hamesha Safar me Qasr Padhe*

★Truk, Rail aur Bus chalane wale log chuki hamesha safar hi me hote he’n, isliye jab tak ye log Safar me he’n qasr he padhte rahenge,

★ Haa’n Jab kabhi apne ghar me jaye ya Aqamat ( 15 din ya isse zyada kayaam ki niyat) me aa jaye to puri namaz padhenge,
*↳ ®Sharah At-Tanveer, 1/833 Ahsanul Fatawa, 4/88*

*👉🏻 Hawai Jahaaz Me Namaz ,*
★ Ba waqt parvaaz Hawai Jahaaz me Namaz Chalte hue. Paani ke Jahaaz ki tarah he, Yani usme ba vajah Namaz jaa’iz he,

★ Agar zameen per utarne tak Namaz qaza ho Jane ka khatra ho to Jahaaz ke ouper hi Namaz padh li jaye, Utarne ka intezar na kiya jaye,
*↳® Ahsanul Fatawa, 4/89*

*👉🏻 Rail aur Bus me Namaz ,*

★Jo log Rail ya Bus me safar karte he’n, Wo koshish kare ki Stop ya Station aane per zameen per utarkar Namaz adaa kare, lekin Driver Bus na roke aur Stop aane ya station tak pahunchne me Namaz ka waqt nikal Jane ka khatra ho to Rail or Bus me Khade hokar qibla rukh hokar Namaz padhe,

★ Agar girne ka khatra ho to kisi cheez se Tek lagakar ya haath se koi cheez pakadkar khade ho,

★ Agar qibla rukh hone ki gunzaish na ho to 2 nashisto (Seato) ya gailry ke darmiyan qibla rukh khade hokar qayaam ruku ka farz Ada kare aur Sajde ke liye pichhli nashist ( seat) per Kursi ki tarah beth jaye yani paanv niche hi rahe, aur Saamne ki nashist ( seat) per Sajda kare,

★ Agar kisi vajah se qayaam ya istaqbale qibla ka Farz Ada na ho sake to us waqt jese bhi mumkin ho Namaz padh le, magar baad me esi Namaz ka ahata (lota le) kare,
*↳® Ahsanul Fatawa, 4/88*

*👉🏻 Dorane Safar Azaan ka Hukm,*

★ Dorane Safar agar sab saathi ek saath hi ek jagah per mojood ho to Namaz ke liye Azaan kehna mustahab he aur aqamat sunnate mokada he, Safar me Tanha Namaz padhne ka bhi yahi hukm he,

★ Rail ke dibbe me chunki sab log ek saath hi hote he’n isliye usme chahe ba jama’at Namaz ho ya tanha, dono soorto me Azaan mustahab he aur aqamat sunnate mokada he,

★Chalti Rail me ek dibbe ke musafir ka doosre dibbe ke musafir se koi talluq nahi, isliye har dibbe me Azaan, Aqamat mustakil hogi, agarche doosre dibbe se Azaan ki awaaz pahunch chuki ho,
*↳® Ahsanul Fatawa, 2/294*

❥═┄ ʀεғεʀεηcε ↴
*📚 ↳®Fiqhul ibadaat, 150*
┄─═✧═✧ ═✧═✧═─┄
┏┅●◑●
┣━━━● *नमाज़ के मसाइल*
*☞ मुसाफिर की नमाज़ _,*

✪_ड्राइवर हमेशा सफर में कसर पढ़े। ट्रक रेल और बस चलाने वाले लोग चूंकि हमेशा सफर में ही होते हैं ,इसलिए जब तक लोग सफर में हैं कसर ही पढ़ते रहेंगें,
हाँ जब कभी अपने घर को जाए या अकामत (15 दिन या इससे ज़्यादा क़याम की नियत ) में आजाये तो पूरी नमाज़ पढ़ेंगे ,
*(शरह अत तनवीर ,1/833,अहसनुल फतावा ,4/88)*

*✪_हवाई जहाज़ में नमाज़:-* बा वक़्त परवाज़ हवाई जहाज़ में नमाज़ चलते हुए पानी के जहाज की तरह है यानी उसमे बा वजह नमाज़ जायज़ है,
अगर ज़मीन पर उतरने तक नमाज़ क़ज़ा हो जाने का खतरा है तो जहाज़ के ऊपर ही नमाज़ पढ़ ली जाए उतरने का इंतज़ार न करें,
*(अहसनुल फ़तावा,4/89)*

*✪_रेल ओर बस में नमाज़  जो लोग रेल या बस में सफर करते हैं , वो कोशिश करे की स्टॉप या स्टेशन आने पर ज़मीन पर उतरकर नमाज़ अदा करें ,लेकिन ड्राइवर बस न रोके और स्टॉप आने या स्टेशन आने तक पहुचने में नमाज़ का वक़्त निकल जाने का खतरा हो तो रेल और बस में खड़े होकर क़िब्ला रुख होकर नमाज़ पढ़े ,
“_अगर गिरने का खतरा हो तो किसी चीज़ से टेक लगाकर या हाथ से कोई चीज़ पकड़ कर खड़े हो,
“_अगर क़िब्ला रुख होने की गुंजाइश न हो तो 2 सीटों या गैलरी के दरमियाँ क़िब्ला रुख खड़े होकर क़याम रुकू का फर्ज अदा करें और सजदे के लिए पिछली सीट पर कुर्सी की तरह बैठ जायें यानी पाँव नीचे ही रहे , और सामने की सीट पर सजदा करें,
“_अगर किसी वजह से क़याम या इस्तक़बाले क़िब्ला का फ़र्ज़ अदा न हो सके तो उस वक़्त जैसे भी मुमकिन हो नमाज़ पढ़ले ,मगर बाद में ऐसी नमाज़ का अहाता (लौटा ले) करें,
*(अहसनुल फ़तवा ,4/88)*

*✪_दौरान सफर अज़ान का हुक्म  दौरान सफर अगर सब साथी एक साथ ही एक जगह पर मौजूद हो तो नमाज़ के लिए अज़ान कहना मुस्तहब है और अका़मत सुन्नते मोक़दा है , सफर में तन्हा नमाज़ पढ़ने का भी यही हुक़्म है,
“_रेल के डिब्बे में चूंकि मुसाफिर का दूसरे डिब्बे के मुसाफिर से कोई ताल्लुक नहीं, इसलिए हर डिब्बे में अज़ान अका़मत मुस्तक़िल होगी, अगरचे दूसरे डिब्बे से अज़ान की आवाज़ पहुँच चुकी हो,
*(अहसनुल फ़तवा 2/294 _,*

*📚_ फिक़हुल इबादात-१५०_,*

Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.