Islamic Blog

Islamic Updates




Namaz

Namaz Padhne Ka Tarika, Namaz Ka Tarika, नमाज का आसान तरीका हिंदी में

Namaz Ka Tarika

Namaz Allah ki ibadat ka ek tarika hai. Namaz ko padhne ka hukm khud Allah ne diya hai, isliye isko kisi bhi halat mein taala nahi ja sakta. Allah ki taraf se din mein 5 time ki namaz ka hukm hai, agar koi insan isko nahi padhta hai to usko gunah hota hai, aur padh lene se sawab milta hai aur Allah khush hota hai.

Namaz shuru karne se pahle namaz kis-kis time hoti hai aur kitni tarah ki hoti hai wo samajh le –
Din bhar mein 5 time ki namaz hoti hai
(1) Subah suraj nikalne se thik pahle, jisko hum ‘fajar’ kahte hain (2) Dophar ko 1 se 2 baje ke beech mein, jisko hum ‘zohar’ kahte hain (3) Shaam ko 5 baje ke aas-pass, jisko hum asar kahte hain (4) Shaam ko suraj dubne ke thik baad, jisko hum ‘Maghrib’ Kahte hain (5) Raat ko 8-9 baje ke beech mein, jisko hum isha ki namaz kahte hain.
In namazo ka time mausam ke hisab se thoda-bahut aage piche hota rahta hai.

Table of Contents

Namaz ke Type –

Namaz 4 tarah ki hoti hai,
(1) Sunnat Namaz – Ye namaz akele padhi jaati hai
(2) Farz namaz – Ye namaz Group mein sabke saath, imam sahab ke piche padhi jaati hai
(3) Nafil Namaz – Ye namaz akele padhi jaati hai.
(5) Wajib Namaz

Dhyan rakhe ki namaz mein idhar-udhar dekhna mana hai, balki puri namaz mein hamari nazar zameen par matha tekne ki jagah ho. Namaz mein kisi se baat bhi nahi kar sakte. Has (Laughing) nahi kar sakte. Aisa karne se hamari namaz nahi hogi.

Note – jis time ki namaz ho, pahle dekh le ki azan ho chuki hai ya nahi, azan hone ke baad hi namaz shuru kare. Azan se pahle nahi.
Ab mein wo batata hu jo namaz ke beech padhte hain.

नमाज का आसान तरीका हिंदी में, Namaz Padhne Ka Tarika, Namaz Ka Tarika Hindi and Urdu

∗ Paanch (5) Waqt Ki Namaz Aur Rakat / Namaj Ka Tarika

» 1. Fazar Ki 4 Rakat (2 Sunnat Aur 2 Farz).
» 2. Johar Ki 12 Rakat (4 Sunnat + 4 Farz + 2 Sunnat + 2 Nafil)
» 3. Asar Ki 8 Rakat (4 Sunnat + 4 Farz)
» 4. Magrib Ki 7 Rakat (3 Farz + 2 Sunnat + 2 Nafil)
» 5. Isha Ki 17 Rakat (4 Sunnat + 4 Farz + 2 Sunnat + 2 Nafil + 3 Vitr + 2 Nafil)

नमाज़ की शर्ते

नमाज़ की कुछ शर्ते हैं। जिनका पूरा किये बिना नमाज़ नहीं हो सकती या सही नहीं मानी जा सकती। कुछ शर्तो का नमाज़ के लिए होना ज़रूरी है, तो कुछ शर्तो का नमाज़ के लिए पूरा किया जाना ज़रूरी है। तो कुछ शर्तो का नमाज़ पढ़ते वक्त होना ज़रूरी है, नमाज़ की कुल शर्ते कुछ इस तरह से है।

  1. बदन का पाक होना
  2. कपड़ो का पाक होना
  3. नमाज़ पढने की जगह का पाक होना
  4. बदन के सतर का छुपा हुआ होना
  5. नमाज़ का वक्त होना
  6. किबले की तरफ मुह होना
  7. नमाज़ की नियत यानि इरादा करना

ख़याल रहे की पाक होना और साफ होना दोनों अलग अलग चीज़े है। पाक होना शर्त है, साफ होना शर्त नहीं है। जैसे बदन, कपडा या जमीन नापाक चीजों से भरी हुवी ना हो. धुल मिट्टी की वजह से कहा जा सकता है की साफ़ नहीं है, लेकिन पाक तो बहरहाल है।

१. बदन का पाक होना

– नमाज़ पढने के लिए बदन पूरी तरह से पाक होना ज़रूरी है। बदन पर कोई नापाकी लगी नहीं होनी चाहिए. बदन पर कोई गंदगी लगी हो या नापाकी लगी हो तो वजू या गुस्ल कर के नमाज़ पढनी चाहिए।

२. कपड़ो का पाक होना

– नमाज़ पढने के लिए बदन पर पहना हुआ कपडा पूरी तरह से पाक होना ज़रूरी है। कपडे पर कोई नापाकी लगी नहीं होनी चाहिए. कपडे पर कोई गंदगी लगी हो या नापाकी लगी हो तो कपडा धो लेना चाहिए या दूसरा कपडा पहन कर नमाज़ पढ़ लेनी चाहिए।

३. नमाज़ पढने की जगह का पाक होना

– नमाज़ पढने के लिए जिस जगह पर नमाज पढ़ी जा रही हो वो जगह पूरी तरह से पाक होना ज़रूरी है। जगह पर अगर कोई गंदगी लगी हो या नापाकी लगी हो तो जगहधो लेनी चाहिए या दूसरी जगह नमाज़ पढ़ लेनी चाहिए।

४. बदन के सतर का छुपा हुआ होना

– नाफ़ के निचे से लेकर घुटनों तक के हिस्से को मर्द का सतर कहा जाता है। नमाज़ में मर्द का यह हिस्सा अगर दिख जाये तो नमाज़ सही नहीं मानी जा सकती.

५. नमाज़ का वक्त होना

– कोई भी नमाज़ पढने के लिए नमाज़ का वक़्त होना ज़रूरी है. वक्त से पहले कोई भी नमाज़ नहीं पढ़ी जा सकती और वक़्त के बाद पढ़ी गयी नमाज़ कज़ा नमाज़ मानी जाएगी।

६. किबले की तरफ मुह होना

– नमाज़ क़िबला रुख होकर पढ़नी चाहिए। मस्जिद में तो इस बारे में फिकर करने की कोई बात नहीं होती, लेकिन अगर कहीं अकेले नमाज़ पढ़ रहे हो तो क़िबले की तरफ मुह करना याद रखे

७. नमाज़ की नियत यानि इरादा करना

– नमाज पढ़ते वक़्त नमाज़ पढ़ें का इरादा करना चाहिए।


✦ वजू का तरीका / Wazu Ka Tarika

नमाज़ के लिए वजू शर्त है। वजू के बिना आप नमाज़ नहीं पढ़ सकते। अगर पढेंगे तो वो सही नहीं मानी जाएगी। वजू का तरीका यह है की आप नमाज़ की लिए वजू का इरादा करे। और वजू शुरू करने से पहले बिस्मिल्लाह कहें. और इस तरह से वजू करे।

  1. कलाहियों तक हाथ धोंये
  2. कुल्ली करे
  3. नाक में पानी चढ़ाये
  4. चेहरा धोंये
  5. दाढ़ी में खिलाल करें
  6. दोनों हाथ कुहनियों तक धोंये
  7. एक बार सर का और कानों का मसाह करें
    (मसह का तरीका यह है की आप अपने हाथों को गिला कर के एक बार सर और दोनों कानों पर फेर लें। कानों को अंदर बाहर से अच्छी तरह साफ़ करे। )
  8. दोनों पांव टखनों तक धोंये।

यह वजू का तरीका है। इस तरीके से वजू करते वक्त हर हिस्सा कम से कम एक बार या ज़्यादा से ज़्यादा तीन बार धोया जा सकता है। लेकिन मसाह सिर्फ एक ही बार करना है। इस से ज़्यादा बार किसी अज़ाको धोने की इजाज़त नहीं है, क्योंकि वह पानी की बर्बादी मानी जाएगी और पानी की बर्बादी करने से अल्लाह के रसूल ने मना किया है।


✦ गुस्ल का तरीका / Gusal Ka Tarika

अगर आपने अपने बीवी से सोहबत की है, या फिर रात में आपको अहेतलाम हुआ है, या आपने लम्बे अरसे से नहाया नहीं है तो आप को गुस्ल करना ज़रूरी है। ऐसी हालत में गुस्ल के बिना वजू नहीं किया सकता. गुस्ल का तरीका कुछ इस तरह है।

  1. दोनों हाथ कलाहियो तक धो लीजिये
  2. शर्मगाह पर पानी डाल कर धो लीजिये
  3. ठीक उसी तरह सारी चीज़ें कीजिये जैसे वजू में करते हैं
  4. कुल्ली कीजिये
  5. नाक में पानी डालिए
  6. और पुरे बदन पर सीधे और उलटे जानिब पानी डालिए
  7. सर धो लीजिये
  8. हाथ पांव धो लीजिये।

यह गुस्ल का तरीका है। याद रहे ठीक वजू की तरह गुस्ल में भी बदन के किसी भी हिस्से को ज़्यादा से ज़्यादा ३ ही बार धोया जा सकता है। क्योंकि पानी का ज़रूरत से ज़्यादा इस्तेमाल इस्लाम में गैर पसंदीदा अमल माना गया है।


✦ नियत का तरीका / Namaz Niyat Ka Tarika Hindi

नमाज़ की नियत का तरीका यह है की बस दिल में नमाज़ पढने का इरादा करे। आपका इरादा ही नमाज़ की नियत है। इस इरादे को खास किसी अल्फाज़ से बयान करना, जबान से पढना ज़रूरी नहीं।  नियत के बारे में तफ्सीली जानकारी के लिए ।

FAJAR KI NAMAZ Ki Rakat

Fajar ke waqt kul 4 Rak’at hai
Pahle 2 Rak’at Sunnat fir 2 Rak’at Faraz
👉🏿 2 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Sunnat Fajar ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolulah  ki Muh mera taraf Kaba shareef ke (Allahu Akbar).
👉🏿 2 RAK’AT FARAZ KI NIYAT- Niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Faraz  Fajar ki Allah Ta’ala ke liye (Jab Imama ke pechhe padhe to kahe ‘Peechhe is Imam ke) muh mera taraf Kaba shareef ke (Allahu Akbar)

(Note : FAJAR KI NAMAZ SUBAH KE WAQT PADHI JATI HAI)

________________________________________________________

ZUHAR KI NAMAZ Ki Rakat

Zohar me 12 Rak’at h. Pahle 4 Rak’at Sunnat fir 4 Rak’at Faraz fir 2 Rak’at sunnat fir 2 Rak’at Nafil

👉🏿 4 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki mane 4 Rak’at Namaz Sunnat Zuhar ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolullah ki Muh mera taraf kaba sharif ke (ALLAHU AKBAR)
👉🏿 4 RAK’AT FARAZ KI NIYAT- niyat ki maine 4 Rak’at Namaz Faraz Zuhar ki Allah Ta’ala ke liye (agr Imam ke peechhe ho to ye bhi kahe ‘peechhe is Imama ke) Muh mera taraf Kaba sharif ke (ALLAHU AKBAR)
👉🏿 2 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- jaise opar 4 Rak’at sunnat ki niyat btayi gai h baise hi kare lekin 4 ki jgah 2 kahe (niyat ki maine 2 Rak’at….)
👉🏿 2 RAK’AT NAFIL KI NIYAT- niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Nafil ki Allah Ta’ala ke liye Muh mera taraf Kaba Sharif ke (ALLAHU AKBAR)

________________________________________________________

ASAR KI NAMAZ Ki Rakat

Asar me kul 8 Rak’at h pahle 4 Rak’at Sunnat fir 4 Rak’at Faraz
👉🏿 4 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki maine 4 Rak’at Namaz Sunnat Asar ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolulah ki Muh mera taraf Kaba Shareef ke (ALLAHU AKBAR)
👉🏿 4 RAK’AT FARAZ KI NIYAT- Niyat ki maine 4 Rak’at Namaz Faraz Asar ki Allah Ta’ala ke liye (Imam ke pechhe ho to ye bhi kahe ‘Peechhe is Imama ke’) Muh mera taraf Ka Kaba shareef ke (Allahu Akbar)

________________________________________________________

MAGRIB KI NAMAZ Ki Rakat

MAGRIB ki Namaz me kul 7 Rak’ h. Pahle 3 Rak’at Faraz fir 2 Rak’at Sunnat fir 2 Rak’at Nafil
👉🏿 3 RAK’AT FARAZ KI NIYAT- Niyat ki maine 3 Rak’at Namaz Faraz Magrib ki Allah Ta’ala ke liye (agr Imam ke peechho ho to ye bhi kahe ‘peechhe is Imam ke’) Muh mera taraf Kaba Sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿 2 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Sunnat Magrib ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolulah ki Muh mera taraf Kaba sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿 2 RAK’AT NAFIL KI NIYAT- Niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Nafil Allah Ta’ala ke liye Muh mera taraf Kaba Shareef ke (Allahu Akbar)

________________________________________________________

ISHA KI NAMAZ Ki Rakat

Namaze Isha me kul 17 Rak’at h pahle 4 Rak’at Sunnat fir 4 Rak’at Faraz fir 2 Rak’at Sunnat fir 2 Rak’at Nafil iske bad 3 Rak’at Witar (Wajib) Fir 2 Rak’at Nafil
👉🏿4 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki maine 4 Rak’at Namaz Sunnat Isha ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolulah ki Muh mera taraf Kaba Sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿4 RAK’AT FARAZ KI NIYAT- Niyat ki maine 4 Rak’at Namaz Faraz Isha ki Allah Ta’ala ke liye (agr Imam ke pechhe ho to ye bhi kahe’Pichhe is Imam ke’) Muh mera Taraf Kaba Sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿2 RAK’AT SUNNAT KI NIYAT- Niyat ki maine 2 Rak’at Namaz Sunnat Isha ki Allah Ta’ala ke liye Sunnat Rasolullah ki Muh mera taraf Kaba sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿2 RAK’AT NAFIL KI NIYAT- Niyat Ki maine 2 Rak’at Namaz Nafil ki Allah Ta’ala ke liye Muh mera taraf Kaba Sharif ke (Allahu Akbar)
👉🏿3 RAK’AT WITAR KI NIYAt- Niyat ki maine 3 Rak’at Namaz Wajib Witar ki Allah Ta’ala ke liye Muh mera taraf Kaba Sharif ke (ALLAHU AKBAR)
👉🏿 2 RAK’AT NAFIL KI NIYAT- Opar bataya gya h

Namaz ke liye zabaan se niyat karna

Niyat karta hoon mai 4 rakat namaz farz, waqt zuhar, waaste Allah tala ke, mooh mera kaba shareef ki taraf, pichhe pesh imam ke….

👆🏿👉🏿Details: Ye wo niyat hai jo kai musalman bhai namaz shuru karne se pehle karte hain. Is tarah zabaan se niyat karne ka koi suboot na to Khud Rasoolullah Sallallahu ‘Alaihi Wasallam se milta hai aur na kisi sahabi, tabiyee etc se. Ye sach hai ki amal ki buniyad niyat hoti hai (Bukhari h# 1) lekin niyat DIL KE IRADE ka nam hai, na ki ZABAAN SE DUHRAYE jane ka.

Ibn Taymiah RH ne kaha Niyat dil ke irade ko kahte hain aur irade ka maqam dil hai, zabaan nahi.(Fatawa Kubra 1/1 )
Ibn Qayyim RH ne zabaan se niyat karne ko bid’at kaha. (Zaadul M’aad 1/201)
Nawawi RH kahte hain ki niyat sirf dil ke irade ko kahte hain, Zabaan se niyat karna na to Rasoolullah Sallallahu ‘Alaihi Wasallam se sabit hai aur na kisi sahabi, tabiyee ya charo Imamo me kisi se. ( Sharah Al Madhab 1/352)
Mulla Ali Qari RH kahte hain Alfaz ke sath niyat karna jayaz nahi kyoki ye bid’at hai. ( Mirqaat 1/41),
Ibn Hamaam RH ne kaha “Rasoolullah Sallallahu ‘Alaihi Wasallam aur sahabi me kisi ek se bhi zabaan se niyat karna manqool nahi hai.” (Fathul Qadeer 1/ 232)
Ibn Abideen RH kahte hain “Zabaan se niyat karna bid’at hai.” (Fatawa shami 1/279)

👉🏿Conclusion: In sab baton ka khulasa ye hai ki namaz ke liye zabaan se niyat na ki jaye. Hum bhi jante hain ki hum kaun si namaz padhne ja rahe hain aur wo kitni rakat hai etc.. aur Allah ko to humse zyada ilm hai, Isliye zaban se is bat ko duharana common sense se bhi bahar hai.

 

अज़ान और अज़ान के बाद की दुआ / Azaan Ke Bad Ki Dua

अज़ान

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर
अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर

अशहदु अल्लाह इलाहा इल्लला
अशहदु अल्लाह इलाहा इल्लला

अशहदु अन्न मुहम्मदुर्रसुल अल्लाह
अशहदु अन्न मुहम्मदुर्रसुल अल्लाह

हैंय्या अलस सल्लाह
हैंय्या अलस सल्लाह

हैंय्या अलल फलाह
हैंय्या अलल फलाह

अल्लाहु अकबर अल्लाहु अकबर
ला इलाहा इल्ललाह

यह है वो अज़ान जो हम दिन में से पांच मर्तबा हर रोज सुनते है।  जब हम यह अज़ान सुनते हैं, तब इसका जवाब देना हमपर लाजिम आता है और यह जवाब कैसे दिया जाये? बस वही बात दोहराई जाये जो अज़ान देने वाला कह रहा है। वो कहें अल्लाहु अकबर तो आप भी कहो अल्लाहु अकबर…. इसी तरह से पूरी अज़ान का जवाब दिया जाये तो बस ‘हैंय्या अलस सल्लाह’ और ‘हैंय्या अलल फलाह’ के जवाब में आप कहें दो ‘ला हौला वाला कुव्वता इल्ला बिल्लाह’


अज़ान के बाद की दुआ – Azan Ke Bad Ki Dua

“अल्लाहुम्मा रब्बा हाज़ीहिल दावती-त-ताम्मति वस्सलातिल कायिमति आती मुहम्मद नील वसिलता वल फ़ज़ीलता अब’असहू मक़ामम महमूद निल्ल्जी अ’अत्तहू”

यह दुआ अज़ान होने के बाद पढ़े. इसका मतलब है, “ऐ अल्लाह! ऐ इस पूरी दावत और खड़े होने वाली नमाज़ के रब! मुहम्मद (स.) को ख़ास नजदीकी और ख़ास फजीलत दे और उन्हें उस मकामे महमूद पर पहुंचा दे जिसका तूने उनसे वादा किया है. यकीनन तू वादा खिलाफी नहीं करता.”
अज़ान और इकामत के बिच के वक्त में दुआ करना बहेतर मना गया है.


✦ नमाज़ का तरीका / Namaz Ka Tarika Hindi

नमाज़ का तरीका बहोत आसान है। नमाज़ या तो २ रक’आत की होती है, या ३, या ४ रक’आत की। एक रक’आत में एक क़याम, एक रुकू और दो सजदे होते है। नमाज़ का तरीका कुछ इस तरह है –

  1. नमाज़ के लिए क़िबला रुख होकर नमाज़ के इरादे के साथ अल्लाहु अकबर कहें कर (तकबीर ) हाथ बांध लीजिये।
  2. हाथ बाँधने के बाद सना पढ़िए। आपको जो भी सना आता हो वो सना आप पढ़ सकते है। सना के मशहूर अल्फाज़ इस तरह है “सुबहानका अल्लाहुम्मा व बिहम्दीका व तबारका इस्मुका व त’आला जद्दुका वाला इलाहा गैरुका” (अर्थात: ए अल्लाह मैं तेरी पाकि बयां करता हु और तेरी तारीफ करता हूँ और तेरा नाम बरकतवाला है, बुलंद है तेरी शान और नहीं है माबूद तेरे सिवा कोई।)
  3. इसके बाद त’अव्वुज पढ़े। त’अव्वुज के अल्फाज़ यह है “अउजू बिल्लाहि मिनश शैतान निर्रजिम. बिस्मिल्लाही र्रहमानिर रहीम।” 
  4. इसके बाद सुरे फातिहा पढ़े।
  5. सुरे फ़ातिहा के बाद कोई एक सूरा और पढ़े।
  6. इसके बाद अल्लाहु अकबर (तकबीर) कह कर रुकू में जायें।
  7. रुकू में जाने के बाद अल्लाह की तस्बीह बयान करे। आप जो अल्फाज़ में चाहे अल्लाह की तस्बीह बयान कर सकते हैं। तस्बीह के मशहूर अल्फाज़ यह है, “सुबहान रब्बी अल अज़ीम (अर्थात: पाक है मेरा रब अज़मत वाला)
  8. इसके बाद ‘समीअल्लाहु लिमन हमीदा’ कहते हुवे रुकू से खड़े हो जाये। (अर्थात: अल्लाह ने उसकी सुन ली जिसने उसकी तारीफ की, ऐ हमारे रब तेरे ही लिए तमाम तारीफे है।)
  9. खड़े होने के बाद ‘रब्बना व लकल हम्द , हम्दन कसीरन मुबारकन फिही जरुर कहें।
  10. इसके बाद अल्लाहु अकबर कहते हुवे सज्दे में जायें।
  11. सज्दे में फिर से अल्लाह की तस्बीह बयान करे। आप जो अल्फाज़ में चाहे अल्लाह की तस्बीह बयान कर सकते हैं। तस्बीह के मशहूर अल्फाज़ यह है ‘सुबहान रब्बी अल आला (अर्थात: पाक है मेरा रब बड़ी शान वाला है)
  12. इसके बाद अल्लाहु अकबर कहते हुवे सज्दे से उठकर बैठे।
  13. फिर दोबारा अल्लाहु अकबर कहते हुवे सज्दे में जायें।
  14. सज्दे में फिर से अल्लाह की तस्बीह करे। आप जो अल्फाज़ में चाहे अल्लाह की तस्बीह बयान कर सकते हैं। या फिर वही कहें जो आम तौर पर सभी कहते हें, ‘सुबहान रब्बी अल आला’

यह हो गई नमाज़ की एक रक’आत। इसी तरह उठ कर आप दूसरी रक’अत पढ़ सकते हैं। दो रक’आत वाली नमाज़ में सज्दे के बाद तशहुद में बैठिये.

१५. तशहुद में बैठ कर सबसे पहले अत्तहिय्यात पढ़िए। अत्तहिय्यात के अल्लाह के रसूल ने सिखाये हुवे अल्फाज़ यह है,
‘अत्ताहियातु लिल्लाहि वस्सलवातु वत्तैयिबातू अस्सलामु अलैका अय्युहन नाबिय्यु रहमतुल्लाही व बरकताहू अस्सलामु अलैना व आला इबादिल्लाहिस सालिहीन अशहदु अल्ला इलाहा इल्ललाहू व अशहदु अन्न मुहम्मदन अब्दुहु व रसुलहू’

१६. इसके बाद दरूद पढ़े। दरूद के अल्फाज़ यह है,
‘अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मद व आला आली मुहम्मद कमा सल्लैता आला इब्राहिम वा आला आली इब्राहिमा इन्नका हमिदुम माजिद. अल्लाहुम्मा बारीक़ अला मुहम्मद व आला आली मुहम्मद कमा बारकता आला इब्राहिम वा आला आली इब्राहिमा इन्नका हमिदुम माजिद’

१७. इसके बाद दुआ ए मसुरा पढ़े। मतलब कोई भी ऐसी दुआ जो कुर’आनी सुरों से हट कर हो। वो दुआ कुर’आन में से ना हो। साफ साफ अल्फाज़ में आपको अपने लिए जो चाहिए वो मांग लीजिये। दुआ के अल्फाज़ मगर अरबी ही होने चाहिए।

१८. आज के मुस्लिम नौजवानों के हालत देखते हुवे उन्हें यह दुआ नमाज़ के आखिर में पढनी चाहिए। ‘अल्लाहुम्मा इन्नी अस’अलुका इलमन नाफिया व रिज्क़न तैय्यिबा व अमलम मुतक़ब्बला.’
– जिसका मतलब है, ‘ऐ अल्लाह मैं तुझसे इसे इल्म का सवाल करता हु जो फायदेमंद हो, ऐसे रिज्क़ का सवाल करता हु तो तय्यिब हो और ऐसे अमल का सवाल करता हु जिसे तू कबूल करे.’

१९. इस तरह से दो रक’अत नमाज़ पढ़ कर आप सलाम फेर सकते हैं। ‘अस्सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाह’ कहकर आप सीधे और उलटे जानिब सलाम फेरें।


✦ तीन रक’आत नमाज़ का तरीका:

दो रक’आत नमाज़ पढने के बाद तशहुद में सिर्फ अत्तहियात पढ़ ले और फिर तीसरे रक’आत पढ़ें के लिए उठ कर खड़े हो जाये. इस रक’अत में सिर्फ सुरे फातिहा पढ़े और रुकू के बाद दो सज्दे कर के तशहुद में बैठें. तशहुद उसी तरह पढ़े जैसे उपर सिखाया गया है और अत्ताहियात, दरूद और दुआ ए मसुरा पढने के बाद सलाम फेर दें।


✦ चार रक’आत नमाज़ का तरीका:

दो रक’आत नमाज़ पढने के बाद तशहुद में सिर्फ अत्तहियात पढ़ ले और फिर तीसरे रक’अत पढने के लिए उठ कर खड़े हो जाये। इस रक’अत में सिर्फ सुरे फातिहा पढ़े और रुकू के बाद दो सज्दे कर के चौथी रक’आत के लिए खड़े हो जाये। चौथी रक’अत भी वैसे ही पढ़े जैसे तीसरी रक’आत पढ़ी गई है। चौथी रक’अत पढने के बाद तशहुद में बैठें। तशहुद उसी तरह पढ़े जैसे उपर सिखाया गया है और अत्ताहियात, दरूद और दुआ ए मसुरा पढने के बाद सलाम फेर दें।


✦ नमाज़ में पढ़ी जाने वाली कुछ सूरतें

सुरः फातिहा:

अलहम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन. अर्रहमान निर्रहीम. मालिकी यौमेद्दीन. इय्याका नाबुदु व इय्याका नस्तईन. इहदिनस सिरातल मुस्तकीम. सिरातल लजिना अन अमता अलैहिम, गैरिल मग्ज़ुबी अलैहिम वला ज़ाल्लिन। [तर्जुमा]


सुरः इखलास:

कुलहु अल्लाहु अहद. अल्लाहु समद. लम यलिद वलम युअलद. वलम या कुल्लहू कुफुअन अहद। [तर्जुमा]


सुरः फ़लक:

कुल आउजू बिरब्बिल फ़लक. मिन शर्री मा खलक. मिन शर्री ग़ासिक़ीन इज़ा वक़ब. व मिन शर्री नफ्फासाती फिल उक़द. व मिन शर्री हासिदीन इज़ा हसद। [तर्जुमा]


सुरः नास:

कुल आउजू बिरब्बिन्नास. मलिकीन्नास. इलाहीन्नास. मिन शर्रिल वसवासील खन्नास. अल्लजी युवसविसू फी सुदुरीन्नास. मिनल जिन्नती वन्नास। [तर्जुमा]

👉🏿 15 Short Surah In Hindi


✦ सलाम फेरने के बाद की दुआएं

सलाम फेरने के बाद आप यह दुआएं पढ़ें।

१. एक बार ऊँची आवाज़ में ‘अल्लाहु अकबर’ कहें

२. फिर तीन बार ‘अस्तगफिरुल्लाह’ कहें

३. एक बार ‘अल्लाहुम्मा अन्तास्सलाम व मिनकस्सलाम तबारकता या जल जलाली वल इकराम’ पढ़े।

४. इसके बार ३३ मर्तबा सुबहान अल्लाह, ३३ मर्तबा अलहम्दु लिल्लाह और ३३ मर्तबा अल्लाहु अकबर पढ़ें।

५. आखिर में एक बार ‘ला इलाहा इल्ललाहु वहदहू ला शरीका लहू लहुल मुल्कू वलहूल हम्दु वहुवा आला कुल्ली शैईन कदीर’ यह दुआ पढ़े.

६. फिर एक बार अयातुल कुर्सी पढ़ लें।

७. ऊपर बताये गए सुरे इखलास, सुरे फ़लक और सुरे नास एक एक बार पढ़ लें।

👉🏿 Namaz mein Durud e Ibrahim ke baad padhne ki dua

👉🏿 Namaz mein Do sazdo ke darmiyan padhne ki dua

👉🏿 How To Pray Isha, How To Pray Isha Namaz

👉🏿 How to perform Qaza Namaz of life time easily

QAZA NAMAZ KI NIYAT

Dosto QAZA NAMAZ (yani jis Namaz ka waqt nikal jata h to wo Namaz Qaza ho gai) ki niyat kaise krni chahiye@

Jis Roz aur jis waqt ki Namaz Qaza ho us Roz aur us wqat ki niyat Qaza me zarori h
Maslan (Jaise)- Agr Juma ke Roz Fajar ki Namaz Qaza ho gai to is tarha Niyat kre ki ‘Niyat ki maine 2 Rak’at Namaze Qaza Juma ke Fajar Faraz ki Allah Ta’ala ke liye Muh Mera taraf Kaba Shareef ke (Allahu Akbar)

Source : https://ummat-e-nabi.com/namaz-in-hindi/

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.