Islamic Blog

Islamic Updates




Dua

Namaz ke Bad Ki Dua – नमाज़ के बाद की दुआएं

नमाज़ के बाद की दुआएं

सबसे पहले दुरूद शरीफ पढ़ें –
“सल्लल्लाहु अला मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम अस्सलातु वास्सलामुआलेका या रुसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम”बिस्मिल्लाहिल्लज़ी ला इलाहा इल्ला हु वरैह्मनुर्रहीम अल्ला हम्मा अज्हि अन्नी ल हम्मा वल हुज्ना. (फ़र्ज़ नमाज़ के बाद माथे पर हाथ रखकर पढ़ें और तीन बार अस्तग्फिरुल्लाह पढ़ें)
आयतुल कुर्सी
(हर नमाज़ के बाद जो शख्स आयतुल कुर्सी पढता है उसे जन्नत में जाने से सिर्फ मौत ही रोके हुए है)
अल्लाहु ला इलाहा इल्लाह हुव्वल हय्युल कय्यूम ला ता खुजू सिनातुवं वला नोम लहू मफिस्समावाती व माफिल अर्दी मन जल्लज़ी यस फऊ इन दुहु इल्ला बी इज्निही यल्ल्मु माँ बैना ईदीहिम वमा खल फहूम वला यूही तूना बिशेहीम मिनइल्मिही इल्ला बिमा शा आ वासी आ कुर्सी हुस्समावाती वल अर्दी वला याहू दुहु हिफजु हुम्मा व हुव्वल अलियुल अज़ीम

अल्लाहुम्मा अन्तास्सलामु व मिन्क्स्सलामु ताबराकता या ज़ल ज़लाली वल इकरामी.

अल्लाहुम्मा रब्बी अ इन्नी अला ज़िक्रिक व शुक्रिक व हुस्ने इबादतिक.

अल्लाहुम्मा रब्बाना आतैना फिद्दुनिया हसनातवं व फिल आखिरती हसनातवं व किना अजाबन्नार. व किना अजाबुन काबरी व किना अजाबुन हश्री व किना अज़बुन मिजान.

ला इलाहा इल्लाहू वह्दुहू ला शरीक लहू लाहुल मुल्कू व लाहुल हम्दु व हु व अला कुल्ली शैइन क़दीर

अल्लाहुम्मा इन्नी आऊजु बिक मिनल ज़ुब्नी व आऊजु बिक मिनल बुख्ली व आऊजु बिक मं अर्ज़लिल उमुरी व आऊजु बिक मं फित्नातिद्दुनिया व अजाबिल काबरी

अल्लाहुम्मा इन्नी आऊज़ुबिक मिनल क़ुफ्री वल फक्री व अजाबिल क़ब्री अल्लाहुम्मग्फिरली मा काद्दम्तु वमा अख्खर्तु वमा अस रर्तु वमा आलम्तु वमा अस्रफ्तु वमा अन त आलमू बिही मिन्नी अंतल मुक़द्दीमु व अंतल मुअख्खुरु ला इलाहा इल्ला अन्त।

अल्लाहुम्मा ला मानी-अ आ तै-त वला मुअ तीय लीमा मन-त वला यन्फ़ूऊ ज़ल ज़द्दी मिन कल ज़द्दु

ऐ अल्लाह हम तुझसे वो तमाम भलाईयां मांगते हैं जो तेरे नबी ने तुझसे मांगी हैं और उन सब चीज़ों से पनाह मांगते हैं जिनसे तेरे नबी ने पनाह मांगी है तू ही वो ज़ात है जिससे मदद मांगी जाती है और हमको मकसद तक पहुँचाना तेरे फज़ल से तेरे ही जिम्मे है बुराइयों से बचाने की ताक़त और नेकियाँ करने की ताक़त तेरी तौफीक से ही मिलती है
या अल्लाह हमें लैलातुल कद्र नसीब फार्म
या अल्लाह हमें कामिले ईमान नसीब फरमा और पूरी हिदायत फरमा
या अल्लाह हमें कलमा तैय्यब नसीब फरमा
या अल्लाह हमें पूरे रमजान की नेमतों और बरक़तों से मालामाल कर दे
या अल्लाह हमारे दिलों को इखलास के दिन की तरफ फेर दे
या अल्लाह हम पर अपनी ख़ास नैमतें नाजिल फरमा और अपने कहर व गज़ब से बचा
या अल्लाह झूठ गीबत कीना बुग्ज़ ताक़ब्बुर बुराई और झगडे से हमारी हिफाज़त फरमा
या अल्लाह हमारे सगीर और कबीर गुनाहों को माफ़ फरमा
या अल्लाह एक लम्हे के लिए भी हमें दुनिया के हवाले न कर
या अल्लाह हमें तंगदस्ती, खौफ घबराहट और क़र्ज़ के बोझ से दूर फरमा
या अल्लाह हमें दज्जाल के फ़ितने से, शैतान के नफस के शर से मौत की शाख्ती से कब्र के अज़ाब से क़यामत की गर्मी से और ज़ेहन्नुम की आग से महफूज़ फरमा
या अल्लाह हश्र की रुसवाई से वालदैन और पूरी उम्मते मुहम्मदिया की हिफाज़त फरमा
या अल्लाह बिना हिसाब किताब के जन्नतुल फिरदौस नसीब फरमा
या अल्लाह अपने अर्श के साए में जगह नसीब फरमा
या अल्लाह हज ऐ बैतुल्लाह मकबूल नसीब फरमा
या अल्लाह हमें तेरे बन्दों का मोहताज़ न बना
या अल्लाह मुनकिर और नकीर के सवालात हम पर आसान फरमा
या अल्लाह हमें हलाल रोज़ी अता फरमा
या अल्लाह क़यामत के रोज़ अपना दीदार नसीब फरमा
या अल्लाह औरतों को परदे की पूरी पूरी पाबन्दी अता फरमा
या अल्लाह छोटी बड़ी बीमारियों से उम्मते मुहम्मदिया की हफाज़त फरमा
या अल्लाह हमारी कौम को सिराते मुस्तकीम पर चलने की तौफीक अता फरमा
या अल्लाह हमें हुज़ूर के प्यारे तरीके सिखा दे और हमको उनकी सुन्नतों पर चलने की तौफीक अता फरमा
या अल्लाह हमारे दिलों में अपनी और हुज़ूर की मोहब्बत नसीब फरमा
या अल्लाह क़यामत के रोज़ रुसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के मुबारक हाथों से आबे कौसर पीना नसीब फरमा
या अल्लाह रुसुलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने भलाई के लिए जो भी दुआ मांगी उसे हमारे हक में नसीब फरमा और जिन बुराइयों से पनाह मांगी उनसे हमारी हिफाज़त फरमा
या अल्लाह हमें कुरान ऐ मजीद की तिलावत की तौफीक अता फरमा
या अल्लाह हमें नमाज़ पाबन्दी से पढने की तौफीक अता फरमा
आमीन अल्लाहुम्मा आमीन
रब्बना ताक़ब्बल मिन्ना इन्नका अन्तस्समिउल अलीम व तब अलैना इन्नका अन्त तावाब्बुर्रहीम
इन्नाल्लाहा व मलैकताहू यु सल्लू न अल्न्नबीय्य या अय्युहल्ल्ज़ीना आमनु सल्लू अलैहि व सल्लिमु तसलीमा
अल्लाहुम्मा सल्ली अला सय्यादिना मौलाना मुहम्मदीन व अला आलेही सय्यादिना मौलाना मुहम्मदीन बारीक व सल्लम अस्सलातु वास्सलामुआलेका या रुसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम
सुब हान रब्बिका रब्बिल इज्ज़ती अम्मा यासिफूं व सलामुन अलल मुरसलीन वाल्हम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन
ला इलाहा इल्लाल्लाहू मुहम्मदुर्रुसूलुल्लाही

mm
Latest posts by Noor Saba (see all)
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.