Islamic Blog

Islamic Updates




Dua

Namaz Ke Baad Ki Dua

रोज़ाना की वाजिब नमाज़ों के बाद, अहलेबैत द्वारा सिखाई गयी दुआ या पवित्र क़ुरान क़ो पढ़ना “ताक़ी’ब” कहलाता है! जिसका लफ़’ज़ी मानी “समय बिताना” है ! रोज़ाना की नमाज़ के बाद ताक़ी’बात पढ़ना “सुन्नत मुवक’किदाह”  (जिसे ज़ोरदार तरीक़े सिफारिश की गयी हो) ह

) ईमाम बाक़र (अ:स) ने कहा के वाजिब नमाज़ के बाद तस्बीह-ए-फ़ातिमा से बेहतर कोई दुआ नहीं है!  अगर ईस से बेहतर कोई और दुआ होती जो अधिक प्रभावी, और अल्लाह की हम्द क़ो कोई दूसरा तरीका होता तो पैग़म्बर (स:अ:व:व) इसे अपनी प्यारी बेटी जनाब फ़ातिमा ज़हरा (स:अ) क़ो ज़रूर बताते! ईमाम जाफ़र सादीक़ (अ:स) ने कहा : तस्बीहे फ़ातिमा क़ो हर नमाज़ के बाद पढ़ना, हज़ार बेहतर कामों से बढ़कर है!:-

अल्लाहो अकबर (34 बार)

अलहम्दु लिल्लाह (33 बार)

सुभान अल्लाह (33 बार)

b) तस्बीह पढ़ने के बाद चाहिए की एक बार ला इलाहा इलल-लाह कहे لاَ إِلٰهَ إِلاَّ ٱللَّهُ  

c) ईमाम बाक़र (अ:स) फ़रमाते हैं की अगर कोई अपने वाजिब नामज़ पूरी कर ले फिर 3 बार यह आयत पढ़े तो अल्लाह उसके सारे गुनाहों क़ो माफ़ कर देगा!

अस’तग़ -फ़ा’रल्लाह अल’लज़ी  ला इलाहा इल्ला हुवल  हय्यल क़य’युमो  ज़ुल’जलाल ए वल इक्रामे व आतुबे इलैह

मै ईस ख़ुदा से बख्शीश चाहता हूँ जिसके सिवा कोई माबूद नहीं, वो जिंदा व पा’इन्दा है (हमेशा ज़िंदा रहने वाला है), और मै इसके हुज़ूर तौबा करता हूँ

ईमाम सादीक़ (अ:स) फ़रमाते हैं की अगर कोई शख्स अपनी वाजिब नमाज़ों के बाद 30 बार “सुभान अल्लाह” पढ़े तो अल्लाह उसके सारे गुनाहों क़ो माफ़ कर देगा!

 

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.