Islamic Blog

Islamic Updates




Hadith

Part 14 – Seerat un Nabee Sal-Allahu Alaihi Wasallam

Bismillahirrahmanirrahim

✦ Part 14 – Seerat un Nabee Sal-Allahu Alaihi Wasallam
(Gustakh e Rasool ka ibrat naak anjam)

✦ Anas bin Malik Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Ek shaksh pahle Esaayee ( Christian) tha , phir wo Islam mein Dakhil ho gaya tha , usne Surah baqra aur Aal-e-Imran parh li phir wo Nabee Sallallahu Alaihi Wasallam ka munshi ( unke liye likhny wala) ban gaya , phir wo shaksh murtad ho gaya aur Esaayee ban gaya aur kahne laga ki Muhammad Sallallahu Alaihi Wasallam ko jo kuch maine likh diya hai uske siwa unhey kuch bhi malum nahi , phir Allah ke hukm se usey Maut aa gayee, aur uske aadmeeyon ne usey dafan kar diya jab subah huyee to sabne dekha ki uski laash Qabr se nikal kar zameen ke upar pardi hai, Eesaeeyon ne kaha ki ye Muhammad (Sallallahu Alaihi Wasallam ) aur unke saathiyon ka kaam hai , kyunki uska deen isne chor diya tha, isliye unhone iski Qabr khodi hai, aur lash ko bahar nikal kar phenk diya hai, phir unhone dusri Qabr khodi jo bahut ziyada gahri thi, lekin jab subha huyee to phir laash bahar thi is baar bhi unhone yahi kaha ki ye Muhammad (Sallallahu Alaihi Wasallam ) aur unke saathiyon ka kaam hai , kyunki uska deen isney chor diya tha, isliye unhone iski Qabr khodi hai, aur laash ko bahar nikal kar phenk diya hai, phir unhone Qabr khodi aur jitni gahri unkey bas mein thi karke uskey andar daal diya, lekin subah huyee to phir laash bahar thi, ab unhe yakeen aa gaya ki ye kisi insaan ka kaam nahi ( bulki ye mayyat Azab-e-ilahi mein giraftar hai) phir unhoney isey yu hi (zameen par) daal diya
Sahih Bukhari, Jild 5, 3617
————–
✦ 14 – सीरत उन नबी सल-अल्लाहू अलैही वसल्ल

✦ अनस बिन मलिक रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की एक शख्स पहले ईसाई ( क्रिस्चियन) था , फिर वो इस्लाम में दाखिल हो गया था , उसने सुराह बक़रा और आल-ए-इमरान पढ़ ली फिर वो नबी सलअल्लाहू अलैही वसल्लम का मुंशी ( उनके लिए लिखने वाला) बन गया , फिर वो शख्स मुर्तद हो गया (यानि इस्लाम छोड़ दिया) और फिर से ईसाई बन गया और कहने लगा की मुहम्मद सललल्लाहू अलैही वसल्लम को जो कुछ मैने लिख दिया है उसके सिवा उन्हे कुछ भी मालूम नही , फिर अल्लाह के हुक्म से उसे मौत आ गयी, और उसके आदमीयों ने उसे दफ़न कर दिया जब सुबह हुई तो सबने देखा की उसकी लाश क़ब्र से निकल कर ज़मीन के उपर पढ़ी है, ईसाईयों ने कहा की ये मुहम्मद (सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ) और उनके साथियों का काम है , क्यूंकी उसका दीन इसने छोड़ दिया था, इसलिए उन्होने इसकी क़ब्र खोदी है, और लाश को बाहर निकाल कर फेंक दिया है, फिर उन्होने दूसरी क़ब्र खोदी जो बहुत ज़्यादा गहरी थी, लेकिन जब सुबह हुई तो फिर लाश बाहर थी इस बार भी उन्होने यही कहा की ये मुहम्मद (सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ) और उनके साथियों का काम है , क्यूंकी उसका दीन इसने छोड़ दिया था, इसलिए उन्होने इसकी क़ब्र खोदी है, और लाश को बाहर निकाल कर फेंक दिया है, फिर उन्होने क़ब्र खोदी और जितनी गहरी उनके बस में थी करके उसके अंदर डाल दिया, लेकिन सुबह हुई तो फिर लाश बाहर थी, अब उन्हे यकीन आ गया की ये किसी इंसान का काम नही ( बल्की ये मय्यत अज़ाब-ए-इलाही में गिरफ्तार है) फिर उन्होने इसे यू ही (ज़मीन पर) डाल दिया
सही बुखारी, जिल्द 5, 3617

As-salam-o-alaikum my selfshaheel Khan from india , Kolkatamiss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.
mm
mm
As-salam-o-alaikum my self shaheel Khan from india , Kolkata miss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.