Islamic Blog

Islamic Updates




allah wallpaper4
Hadith

Ramadan Hadith

Table of Contents

بسم الله الرحمن الرحيم

الصــلوة والسلام‎ عليك‎ ‎يارسول‎ الله ﷺ

Roze ke teen (3) darje hai:
1⃣ Aam logoñ ka roza ke peit aur sharmgaah khane peene aur jima se rokna.

2⃣ Khaas logoñ ka roza kaan aankh zubaan aur haath paaoñ tamaam aaza e jism ko gunaahoñ se baaz rakhna.

3⃣ Khaas ul Khaas logoñ ka roza ki Allah ﷻ ke siwa apne ko sabse juda karna aur apni tamaam tawajjoh ko sirf Allah ﷻ ki Taraf lagana.

(Bahar e Shari’at, Jild 5, Safah no.966)

1# ह़दीस शरीफ़ Hadithहु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzur Sallallahu Alehi wasallam Ne Farmaya :

जो रमज़ान में क़याम करे ईमान के साथ सवाब तलब करने के लिए ,उसके अगले गुनाह बख़्श दिए जाएंगे Jo Ramdan me Qayam kare imaan ke sath sawaab talab karne ke liye,uske agle gunaah bakhsh diye jaayege

(मुस्लिम शरीफ़ जिल्द 1 किताबुल सलातुल मुसाफ़िरीन ह़दीस 859 सफ़ा 382 – Muslim 1 Kitabul salatul Musaafirin Hadith No.859)

2# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzur Sallallahu Alehi wasallam Ne Farmaya:

रोज़ा इ़बादत का दरवाज़ा है। Roza Ibaadat Ka Darwaza Hai

(अल जामीउस्सग़ीर सफ़ा 146 ह़दीस 2415 – Al Jamiussagir Safa P.146 Hadith No.2415)

3# ह़दीस शरीफ़ Hadithहु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzur Sallallahu Alehi wasallam Ne Farmaya:

अगर बंदों को मालूम होता के रमज़ान क्या है तो मेरी उम्मत तमन्ना करती के काश पूरे साल रमज़ान ही हो Agar bando ko maloom hota ke ramzan kya hai to meri ummat tamanna karti ke kaash poore saal ramzan hi ho.

(Sahih Ibne Khuzaima J.3 Safah 190 Hadees 1886 सह’ही इब्ने खुज़ेम जिल्द 3 सफ़ह190 हदीस 1886)

4# ह़दीस शरीफ़ Hadithहु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzur Sallallahu Alehi wasallam Ne Farmaya:

रोज़ा और क़ुराआन बंदे के लिए क़यामत के दिन शफ़ाअ़त करेंगें रोज़ा अर्ज़ करेगा के ए रब्बे करीम मैंने खाने और ख्वाहिशों से दिन में इसे रोक दिया मेरी शफ़ाअ़त इस के हक़ में क़ुबूल फ़रमा क़ुराआन कहेगा मैंने इसे रात में सोने से बाज़ रखा मेरी शफ़ाअ़त इसके लिए कुबूल कर पस दोनों की शफ़ाअ़तें क़ुबूल होंगी। Roza Aur Qur’an bande ke liye Qayamat ke din shafa’at karege,Roza arz karega Aye!Tanbe Karim mene khaane aur khawahisho se din me isey rok diya meri shafa’at iske haq me qabool farma, Qur’an kahega mene is raat me soney se baaz rakha,meri shafa’at iske haq me qabool farma,pas dono ki shafa’at Qubool hogi

(Masnad Imaam Ahmed J.2 Safa 586 Hadith 6637-मस्नद इमाम अह़मद जिल्द 2 सफ़ा 586 ह़दीस 6637)

5# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzoor sallALLAHu alaihi wasallam ne farmaya ke

जिसने मक्का मुकर्रमा में रमज़ान पाया और रोज़ा रखा और रात में जितना मयस्सर आया कयाम किया तो अल्लाह तआ़ला उसके लिए उस जगह के 1 लाख रमज़ान का सवाब लिखेगा और हर दिन एक गु़लाम आज़ाद करने का सवाब और हर रात एक गु़लाम आज़ाद करने का सवाब। Jisne makka mukarrama me ramzan paya aur roza rakha aur raat me jitna mayassar aaya Qiyam kiya to ALLAH ta’aala uske liye us jagah ke 1 lakh ramzan ka sawab likhega aur har din 1 gulam azad karne ka sawab aur har raat ek gulam azad karne ka sawab.

(Ibne Maja Shareef Jild 3 Safah 523 Hadees 3117- इब्ने माजा शरीफ़ जिल्द 3 सफ़ा 523 ह़दीस 3117)

6# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzoor sallALLAHu alaihi wasallam ne farmaya ke

रमज़ान में ज़िकरुल्लाह करने वाले को बख़्श दिया जाता है और इस महीने में अल्लाह तआ़ला से मांगने वाला महरूम नहीं रहता।Ramzan me Zikrullah karne wale ko bakhsh diya jata hai Aur is mahine me Allah Ta’ala se maangne wala mehrum nahi rehta.

(Sho’ebul Iman J.3 S.311 H.3628 शोबुल ईमान जिल्द 3 सफ़ा 311 ह़दीस 3628)

7# ह़दीस शरीफ़ Hadith :

1 हज़ार दिन से अफ़ज़ल 1 Hazaar Din se Afzal

माहे रमज़ान में 1 दिन का रोज़ा रखना 1000 दिन के रोज़ों से अफ़ज़ल है और माहे रमज़ान में एक मर्तबा तस्बीह करना इस माह के अलावा 1000 मर्तबा तस्बीह करने से अफ़ज़ल है और माहे रमज़ान में 1 रकात पढ़ना ग़ैर रमज़ान की 1000 रकातों से अफ़ज़ल है। Maahe Ramzan me 1 Din ka Roza rakhna 1000 din ke rozi se afzal hai, Aur maahe ramzan me ek martaba tasbih karna is maah ke alawa 1000 martaba tasbih karne se afzal hai aur maahe ramzan me 1 rajat padna gair ramzan ki 1000 rakaato se afzal hai.

(तफ़्सीरे दुर्रे मनसूर जिल्द 1 सफ़ा 454 Tafsir Durre Mansoor J.1 S.454)

8# ह़दीस शरीफ़ Hadith : जब माहे रमज़ान तशरीफ़ लाता तो हु़ज़ूर पाक़ सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम का रंग मुबारक मुतग़य्यर यानी तब्दील हो जाता और नमाज़ की कसरत फ़रमाते और ख़ूब दुआ़ मांगते। Jab Maahe Ramzan tashrif laata to Huzoor sallALLAHu alaihi wasallam ka Rang mubarak mutagayyar yaani tabdil ho jata aur namaz ki kasrat farmate aur khub dua maangte.

(शोबुल ईमान जिल्द 3 सफ़ा 310 ह़दीस 3625 Sho’ebul Iman J.3 S.310)

9# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ﷺ ne irshad farmaya ke

ये रमज़ान तुम्हारे पास आ गया है इसमें जन्नत के दरवाजे़ खोल दिए जाते हैं और जहन्नम के दरवाजे़ बंद कर दिए जाते हैं और शयातीन को क़ैद कर दिया जाता है और महरुम है वह शख्स जिसने रमजान को पाया और उसकी मग़फ़िरत ना हुई के जब उसकी रमज़ान में मग़फ़िरत ना हुई तो कब होगी|Ye ramzan tumhare paas aa gaya hai isme jannat ke darwaze band kar diye jaate hai aur shaharon ko qaid kar diya jata hai aur mehrum hai wo shakhs jisne ramzan ko paya aur uski magfirat naa hui to kab hogi.

(Al Mo’jamul ausat J.5 Safar 366 Hadith 7627- अल मौ’जमुल औसात जिल्द 5 सफ़ा 366 ह़दीस 7627)

10# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाते है , सेहरी खाया करो क्योकि सेहरी में बरकत है। Huzoor Nabi e Kareem ﷺ irshad farmate haiñ sehri khaya karo kyuki sehri mein barkat hai.

(Bukhari Shareef, Jild 1, Safa 633 , Hadith No. 1923 बुख़ारी शरीफ़ जि.1 स.633 हदीस 1923)

11# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

बेशक जन्नत माहे रमज़ान के लिए एक साल से दूसरे साल तक सजाई जाती है पस जब माहे रमज़ान आता है तो जन्नत कहती है ए अल्लाह तआ़ला मुझे इस महीने में अपने बंदों में से (मेरे अंदर) रहने वाले अ़ता फ़रमादे और हूरें कहती हैं ए अल्लाह तआ़ला इस महीने में हमें अपने बंदों में से शोहर अ़ता फ़रमा|Beshak jannat maahe ramzan ke liye ek saal se dusre saal tak sajai jaati hai,pas jab maahe ramzan aata hai to Jannat kehti hai Aye! ALLAH mujhe is mahine me apne bando me se(mere andar) rehne wale ata farmade Aur hoorey kehti hai Aye Allah is mahine me hame apne bando me se shohar ata farma.

(Al Mo’jamul Ausat J.2 P.415 Hadith 3677- मौ’जमुल औसात जिल्द 2 सफ़ा 415 ह़दीस 3677)

12# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

ए फ़ातिमा अल्लाह तआ़ला तेरे ग़ुस्सा होने की वजह से ग़जबनाक हो जाता है , और तेरी खुशी की वजह से वो भी खुश होता है|Aye Fatima Allah Ta’ala tere ghussa hone ki wajah se gazabnaak ho jata hai, Aur teri khushi ki wajah se wo bhi khush hota hai.

(कन्ज़ुल उम्माल जिल्द 7 जुज़ 15 सफ़ा 307 ह़दीस 37725 -Kanzul Ummal J.7 Juz15 P.307 Hadith 37725)

13# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हज़रत अबू हुरैरा से रिवायत है नबीए करीमﷺ इरशाद फरमाते है, Hazrat Abu Hurairah رضي الله عنه se riwayat hai Nabi e Kareem ﷺ irshad farmate hai,

जो शख़्स ईमान के साथ सवाब की उम्मीद से रोज़ा रखेगा तो उसके अगले गुनाह बख़्श दिए जाएंगे jo shakhs imaan ke saath sawaab ki ummid se Roza rakhega to uske agle gunaah baksh diye jayege.

और जो शख़्स ईमान के साथ सवाब की नियत से रमज़ान की रातों में इबादत करेगा तो उसके अगले गुनाह बख़्श दिए जाएंगे, Aur jo shakhs imaan ke saath sawaab ki niyyat se Ramzaan ki raaton mein ibaadat karega to uske agle gunaah bakhs diye jayege.

और जो शख़्स ईमान के साथ सवाब हासिल करने की गरज़ से शबे क़द्र में इबादत करेगा उसके अगले गुनाह बख़्श दिए जाएंगे Aur jo shakhs imaan ke saath sawaab haasil karne ki garaz se Shab e Qadr mein Ibadat karega uske agle gunaah baksh diye jayege.”

(📚Bukhari Shareef बुख़ारी शरीफ़📚)

14# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जिसने इस माह में अपने नफ़्स की ह़िफ़ाज़त की के ना कोई नशा आवर शे (चीज़) पी और ना ही किसी मोमिन पर बोहतान लगाया और ना ही इस माह में कोई गुनाह किया तो अल्लाह तआ़ला हर रात के बदले उसका 100 हूरों से निकाह़ फरमाएगा और उसके लिए जन्नत में सोने चांदी याकूत और ज़बरदस्त ऐसा महल बनाएगा कि अगर सारी दुनिया जमा हो जाए और इस महल में आ जाए तो इस महल की इतनी ही जगह घेरेगी जितना बकरियों का एक बाड़ा दुनिया की जगह घेरता है।Jis ne is maah me apne nafs ki hifazat ki ke naa koi nasha awar chizn pi aut naa hi kisi momin par vigyan lagaya aur na hi is maah me koi gunah kiya to Allah Ta’ala har raat ke badle uska 100 hooro se nigah farmayega aur uske liye jannat me sone chandi yaqub aur zabardast aisa mahal banayega ki agar saari duniya jama ho jaye aur is mahal me aa jaye to is mahal ki itni hi jagah gheregi jitna bakriyo ka bada duniya ki jagah gherta hai.

(अल मौ’जमुल औसात जिल्द 2 सफ़ा 415 ह़दीस 3677-Al Mo’jamul Ausat J.2 p.41t Hadith 3677)

15# ह़दीस शरीफ़ Hadith: इकट्ठा होकर खाओ ,अलग अलग ना खाओ , की बरकत जमाअत के साथ है और खड़े होकर न खाओ और ना पीओ। Ikhatthe ho kar khaao, alag alag na khaao, ki barakat jamaat ke saath hai, aur khade ho kar na khaao aur na piyo.

(इब्ने माजा, जि.4 सफ़ह 21 -Ibne Majah, Jild-4 Safah-21)

16# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जिसने इस माह में कोई नशा आवर शे (चीज़) पी या किसी मोमिन पर बोहतान बांधा या इस माह में कोई गुनाह किया तो अल्लाह तआ़ला उसके 1 साल के आमाल बरबाद फ़रमादे। Jisne is maah me koi nasha sawar chiz pi ya kisi momin par bohtaan baandha ya is maah me koi gunah kiya to Allah Ta’ala uske 1 saal ke aamal barbaad farmaade

(अल मौ’जमुल औसात जिल्द 2 सफ़ा 415 ह़दीस 3677 -Al Mo’jamul Ausat J.2 p.415 Hadith 3677)

17# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

तुम माहे रमज़ान (के ह़क़) में कोताही करने से डरो क्योंकि यह अल्लाह तआ़ला का महीना है अल्लाह तआ़ला ने तुम्हारे लिए 11 महीने कर दिए कि उनमें नेमतों से लुत्फ़ अंदोज़ हो और लज़्ज़त हासिल करो और अपने लिए एक महीना ख़ास कर लिया है पस तुम माहे रमज़ान के मामले में डरो।Tum maahe ramzan (ke Haq)me kotahi karne se daro kyoki ye Allah Ta’ala ka mahina hai Allah Ta’ala ne tumahre liye 11 mahine kar diye ke unme nemato se lutf andaz ho,aur lazzat hasil karo aur apne liye 1 mahina khaas kar liya hai pas tum maahe ramzan ke mamle me daro.

(अल मौ’जमुल औसात जिल्द 2 सफ़ा 415 ह़दीस 3677-Al Mo’jamul Ausat J.2 p.415 Hadis 3677)

18# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जिसने इस माह में ज़िना किया तो अगले रमज़ान तक अल्लाह तआ़ला और जितने आसमानी फ़रिश्ते हैं सब उस पर लानत करते रहेगें पस अगर ये शख़्स अगले माहे रमज़ान पाने से पहले ही मर गया तो उसके पास कोई एसी नेकी ना होगी जो उसे जहन्नम की आग से बचा सके पस तुम माहे रमज़ान के मामले में डरो क्योंकि जिस तरह इस माह में और महीनो के मुक़ाबले में नेकियां बढ़ा दी जाती हैं इसी तरह गुनाहों का भी मामला है।

(अल मौ’जमुस्सग़ीर जिल्द 1 सफ़ा 248 )

19# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जिसने इस माह में ज़िना किया तो अगले रमज़ान तक अल्लाह तआ़ला और जितने आसमानी फ़रिश्ते हैं सब उस पर लानत करते रहेगें पस अगर ये शख़्स अगले माहे रमज़ान पाने से पहले ही मर गया तो उसके पास कोई एसी नेकी ना होगी जो उसे जहन्नम की आग से बचा सके पस तुम माहे रमज़ान के मामले में डरो क्योंकि जिस तरह इस माह में और महीनो के मुक़ाबले में नेकियां बढ़ा दी जाती हैं इसी तरह गुनाहों का भी मामला है।

(अल मौ’जमुस्सग़ीर जिल्द 1 सफ़ा 248)

20# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया केHuzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

🔶” जिसने 1 दिन का रोज़ा अल्लाह तआ़ला की रिज़ा हासिल करने के लिए रखा अल्लाह तआ़ला उसे जहन्नम से इतना दूर कर देगा जितना एक कौवा अपने बचपन से उड़ना शुरू करें यहां तक के बूढ़ा होकर मर जाए।”🔶

📙 अबु याला जिल्द 1 सफ़ा 383 ह़दीस 918 📙

21# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke-

“Jisne halal khane ya pani se (kisi Musalman ko) roza iftar karwaya farishte mahe ramzan ki auqat me uske liye istagfar karte hai aur Jibreel alaihissalam shabe qadr me uske liye istagfar karte hai..”

📙 Al Maujamul Kabeer Jild 6 Safah 262 Hadees 6162.📙

22# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के

RasoolAllah ﷺ irshad farmate hai jo shakhs bagair uzr ke ramzaan ka ek roza bhi chor de to saari umr ke nafl roze bhi uski talafi na kar sakege.

(Musnad Imam Ahmed.)

23# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Hazrat Amr Ibne Shuaib رضي الله عنه apne walid se aur woh apne dada se riwayat karte hai ki 2 aurtein Huzoor ﷺ ke pass haazir huwi aur unke haathon mein soney (Gold) ke 2 kangan (Bangle) the.

Nabi e Kareem ﷺ ne irshad farmaya kya tum inki zakaat deti ho? Unhone arz kiya nahee.

Huzoor ﷺ ne irshad farmaya kya tum iss baat ko pasand karti ho ke Allah Ta’ala tumko aag ke 2 kangan pehnayega? Unhone arz kiya nahee.

Huzoor Rehmat e Aalam ﷺ ne irshad farmaya to fir unki zakaat adaa kiya karo.

(Tirmizi Shareef)

24# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Hazrat Abu Hurairah رضي الله عنه se riwayat hai, हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ﷺ irshad farmate hai

“Jo shakhs sachhe dil se aur sahih aqeede ke saath ramzaan mein qayaam karey yaani taraweeh parhe to uske agle gunaah baksh diye jaate hai.”

(Muslim Shareef.)

25# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Ramazan ki har shaam ko suraj ke guroob hone ke waqt Allah Ta’ala 60000 gunehgaroñ ko jahannam se aazad karta hai. Aur Eid ke roz Allah Ta’ala itne logoñ ki bakhshish karta hai jitne usne poore mahine bhar mein kiye.

(Baihaqi, Shu’ab al-Iman Jild 5, Safah No 221 Hadees No 3334)

26# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जिसने रमज़ान में 10 दिनों का एतेकाफ़ कर लिया तो ऐसा है के 2 ह़ज और 2 उ़मरह किए।

(शोबुल ईमान जिल्द 3 सफ़ह 425 ह़दीस 3966)

27# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने मोतकिफ़ इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne Motakif ke bare me farmaya ke-

“Wo gunaho se baaz rehta hai aur nekiyo se use us qadr sawab milta hai jese usne tamam nekiya ki.”

(Ibne Maja Jild 2 Safah 365 Hadees 1718)

28# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem ne ﷺ irshad farmaya ke

जो माल ह़ासिल हुआ उस पर ज़कात नहीं है जब तक उस पर साल ना गुज़रे।

(कन्ज़ुल उम्माल जिल्द 3 जुज़ 6 सफ़ा 573 ह़दीस 15847)

29# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम  ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem  ne irshad farmaya ke

“Koi maal zaya nahi ho sakta samundr me aur na khushki me magar wohi jiski zakat rokli gai ho.

📙 Kanzul Ummal Jild 3 Juzz 6 Safah 566 Hadees 15807)

30# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया केHuzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

क़यामत के दिन ज़कात रोकने वाला जहन्नम में होगा।”🔶

📙 कन्ज़ुल उम्माल जिल्द 3 जुज़ 6 सफ़ा 566 ह़दीस 15809)

31# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

जंगे बद्र के मुजाहिदों की फ़ज़ीलत

ह़ुज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहु अ़लेही व सल्लम ने फ़रमाया केHuzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

🔹”बेशक अल्लाह त’आ़ला अहले बद्र से वाक़िफ़ है और उसने ये फ़रमा दिया है के तुम अब जो अमल चाहो करो बिला शुबा तुम्हारे लिए जन्नत वाजिब हो चुकि है (या) मैंने तुम्हे बख़्श दिया है। “🔹

📙 बुख़ारी शरीफ़ किताबुल मग़ाज़ी बाब फ़दली मन शहीदा बद्र जिल्द 2 सफ़ह 529 ह़दीस 1160.📙

32# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

🌟17 रमज़ान विसाले पाक ह़ज़रत आ़एशा रदियल्लाहु अ़नहा🌟

🔶 शाने हज़रत आ़एशा सिद्दीक़ाह🔶

ह़ुज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहु अ़लेही वसल्लम ने फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

🔹”आ़एशा जिब्रील अ़लेहिस्सलाम तुम्हे सलाम कहते हैं (तो हज़रत आ़एशा ने कहा) उन पर भी सलाम और रह़मत हो।”🔹

📙 तिरमीज़ी शरीफ़ अबवाबुल मनाक़िब बाब फ़दली आ़एशा रदियल्लाहु अ़नहा जिल्द 2 सफ़ह 766 ह़दीस 1811📙

33# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया केHuzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

🔶”जब तूने अपने माल की ज़कात अ़दा कर ली तो तूने दर हक़ीक़त अपने माल के शर (बुराई) को दफ़ा कर दिया।”🔶

📙 कन्ज़ुल उम्माल जिल्द 3 जुज़ 6 सफ़ा 561 ह़दीस 15762📙

34# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

🔶”अपने अमवाल (मालों) को ज़कात (की अदाएगी) के साथ पाक करो।”🔶

📙 कनज़ुल उम्माल जिल्द 3 जुज़ 6 सफ़ा 560 ह़दीस 1560 📙

35# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke-

🔹”Zakat Islam ka pul hai.”🔹

📙 Al Maujamul Ausat Jild 6 Safah 328 Hadees 8937.📙

36# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

” तुम्हारे इस्लाम का पूरा होना ये है के अपने अमवाल (माल) की ज़कात अ़दा करो।

(मौजमुज़् ज़वाइद जिल्द 3 सफ़ा 198 ह़दीस 4326 किताबुज़् ज़कात )

37# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke-

“Jo qom zakat na degi ALLAH ta’aala use qahat me mubtela farmaega.

📙 Al Maujamul Ausat Jild 3 Safah 285-86 Hadees 4577.📙

38# ह़दीस शरीफ़ Hadith:हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke-

“Jab tum me koi roza iftar kare to khujur ya chhuhare se iftar kare ke wo barkat hai aur agar na mile to pani se ke wo paak karne wala hai.”

(Tirmizi Shareef Jild 2 Safah 162 Hadees 695)

39# ह़दीस शरीफ़ Hadith: हु़ज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहू अ़लेही वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam ne irshad farmaya ke

बन्दो का रोज़ा आसमान और ज़मीन के दरमियान मुअ़ल्लक़ (लटका) रहता है जब तक सदक़ए फ़ित्र अ़दा ना करें।”

( तारीख़े बग़दाद जिल्द 9 सफ़ह 122 ह़दीस 473)

40# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Huzoor Sarwar e Qaunain ﷺ irshad farmate haiñ Roza dozakh ki aag se hifazat ka zariya hai.

(Tirmizi Shareef.)

41# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Huzoor Nabi e Kareem sallALLAHu alaihi wasallam-

🔹”Eidul fitr (mithi eid) ke din jab tak chand khujure na kha lete eidgah tashreef na lejate aur aap taaq (1,3,5,7,) khujure tanaul farmate.”🔹

(Bukhari Shareef Jild 1 Safah 328 Hadees 953)

42# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Huzoor Sarwar e Qaunain ﷺ irshad farmate haiñ Roza dozakh ki aag se hifazat ka zariya hai.

*#Tirmizi Shareef.

42# ह़दीस शरीफ़ Hadith:

Huzoor Nabi e Kareem Rauf o Raheem ﷺ irshad farmate haiñ

khajoor se iftaar karna barkat ka sabab hai aur is mein zyada sawab hai. Agar khajoor na miley to pani se iftaar kar lein.

*#Ibne Majah Shareef

43# ह़दीस शरीफ़ Hadith: Huzoor paak ﷺ ne farmaya ke:

“Roze ki halat me jiska inteqal hua ALLAH Paak usko qayamat tak ke rozo ka sawab ata farmata hai.”

(Al Firdaus Jild 3 Safah 503 Hadees 5557)

Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
2766f1f15459b5250a1f0c04c532934d?s=250&d=mm&r=g
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.