Islamic Blog

Islamic Updates




Dua

Roza Rakhne Ki Dua Aur Roza Kholne Ki Dua In Hindi

Roza Rakhne Ki Dua Hindi

Roza Kholne Ki Dua

Roza Rakhne Ki Dua agar dil mein bhi kar li jaye aur niyat ko muh se na bola jaye to bhi kaafi hai lekin agar koi chahe to muh se bhi bol sakta hai.

 

Table of Contents

रोजा रखने की दुआ / Roza Rakhne Ki Dua / Sehri Ki Dua / Roza Kholne Ki Dua

 Roza Rakhne Ki Dua In Arabic

وَبِصَوْمِ غَدٍ نَّوَيْتُ مِنْ شَهْرِ رَمَضَانَ 

Roza Rakhne Ki Dua Hindi

‘’व बि सोमि गदिन नवई तु मिन शहरि रमजान’’ 

Roza Rakhne ki niyat English

“Wa bisawmi ghadinn nawaitu min shahri Ramzan”. 

दुआ का मतलब हिंदी में / Roza Rakhne Ki Dua With Tarjuma

Maine Mah-e-Ramzan Ke Roje Ki Niyat Ki Hai.

Roza Kholne Ki Dua in Arabic !

(اَللّٰهُمَّ اِنَّی لَکَ صُمْتُ وَبِکَ اٰمَنْتُ وَعَلَيْکَ تَوَکَّلْتُ وَعَلٰی رِزْقِکَ اَفْطَرْتُ)

हिंदी में रोजा खोलने की दुआ – Roza Kholne Ki Dua Hindi

”अल्लाहुम्मा इन्नी लका सुमतु, व-बिका आमन्तु, व-अलयका तवक्कालतू, व- अला रिज़क़िका अफतरतू ”

इंग्लिश मे रोजा खोलने की दुआ – Roza Kholne Ki Dua English

Allahumma inni laka sumtu wa bika aamantu wa alayka tawakkaltu wa ala rizq-ika-aftartu..”

Meaning- O, Allah! I fasted for You and I believe in You and I put my trust in You.

हिंदी अर्थ

 हे, अल्लाह! मैंने तुम्हारे लिए उपवास किया और मुझे तुम पर विश्वास है और मैंने तुम पर अपना भरोसा रखा है।

 

सेहरी मेरे क्या खाए ! – Sehri Me Kya Khaye

खजूर
खजूर में आयरन के साथ कई पोषक तत्व पाएं जाते हैं। सेहरी में खजूर खाने से दिन भर कमजोरी का अहसास नहीं होता।

पानी
सेहरी के टाइम कम से कम दो से तीन गिलास पानी जरूर पीएं। इसके अलावा शरीर को कमजोरी या मोटापे से बचाने के लिए इफ्तार से सेहरी के बीच भी खूब पानी पीना चाहिए। ऐसा करने से आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी।

दूध-दही
सेहरी में कैल्शियम जरूर शामिल करना चाहिए। इसके लिए दूध या दही लेने से आपको पूरे दिन प्यास नहीं लगेगी।

फल-सब्जी
रोजे में फल और सब्जी खाने से आपको भूख नहीं लगेगी क्योंकि ये धीरे-धीरे पचती हैं। साथ ही शरीर को भी तरलता मिलती है।

Sehri Ki Fazilat

Ramadan Hadith Quotes in Roman Urdu, Hindi, English

Ramadan Some Important Tips

Iftar Se Pahle Ki Dua

घर पर तरावीह की नमाज़ कैसे पढ़ें

Roza Kesa Hona Chahiye

Roze Ki Niyat Ke Masle

Ramzan Ke Roze Ki Ahmiyat Aur Fazilat

रोजा में ये चीजें बिलकुल ना करें

  • रोजे की सबसे पहली शर्त है भूखे रहना. मतलब सुबह जब सबसे पहली अजान होती है उस वक्त से लेकर शाम में सूरज डूबने तक कुछ भी नहीं खाना है ना ही पीना. कुछ नहीं मतलब कुछ भी नहीं. सिगरेट, जूस, चाय, पानी कुछ भी नहीं.
  • इस्लाम में शराब हराम है, मतलब शराब पीना गुनाह माना जाता है. इसलिए रोजे के दौरान भी शराब का सेवन की एकदम मनाही है.
  • दूसरों की बुराई या झूठ बिलकुल भी ना बोलें
  • लड़ाई, झगड़ा, गाली देना इन सब चीजों से रोजा टूट जाता है
  • शारीरिक संबंध बनाना भी मना है
  • किसी भी औरत या मर्द को गलत नजर से देखना भी मना
  • जानबूझ कर उल्टी करने से भी रोजा टूट जाता है

 

रमजान मैं क्या करे / Ramzan Me Kya Kare

ज्यादा से ज्यादा अल्लाह को याद करें. नमाज और क़ुरान पढ़ें. क्योंकि इस महीने में जो इबादत की जाती है, आम दिनों के मुकाबले ज्यादा बरकत देती है.

  • एक दूसरे की मदद करें
  • जकात और फितरा दें. मतलब गरीब को ज्यादा से ज्यादा दान करें
  • रोजेदारों को इफ्तार कराएं
  • मिस्वाक (दातुन) करना
  • सेहरी (सुबह के वक्त का खाना) का इंतजाम करें, मतलब सुबह सूरज निकलने से पहले कुछ खाएं और दूसरों को भी खिलाएं

इन हालत में रोजे में छूट

  • बीमार के लिए माफी- अगर कोई बीमार है, जिसमें डॉक्टर ने भूखे रहने से मना किया है. या फिर वो कुछ ऐसी दवा खा रहा है जिसे छोड़ने से उसकी बीमारी बढ़ जाएगी तो वो रोजा छोड़ सकता है.
  • यात्रा के दौरान छोड़ सकते हैं रोजा- कोई लंबी यात्रा पर है और अगर रोजा रखने में परेशानी आ सकती है तो रोजा छोड़ा जा सकता है. लेकिन छोड़े हुए रोजे का बदला बाद में रोजा रख कर पूरा करना होगा.
  • प्रेग्नेंट औरतें को छूट- प्रेग्नेंट औरतें या नई-नई मां बनने वाली महिलाएं, जो बच्चे को दूध पिलाती हैं, वह भी रोजा नहीं रख सकतीं हैं
  • बुजुर्ग और छोटे बच्चों को भी रोजा रखने में छूट दी गई है.

इन हालातों में नहीं टूटते हैं रोजे

रोजा को लेकर कई तरह के भ्रम सामने आते रहते हैं. किन हालातों में रोजा टूट जाता है किन हालातों में नहीं? आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ धारणाओं और मान्यताओं के बारे में.

  • गलती से कुछ खा लेने से नहीं टूटता है रोजा- कई बार इंसान ये भूल जाता है कि वो रोजा है और ऐसे में गलती से कुछ खा लेता है, तो इस हालत में रोजा नहीं टूटेगा. लेकिन इसके लिए शर्त है कि अगर खाने के बीच में ही आपको याद आ जाए कि आप रोजा हैं तो खाना तुरंत छोड़ देना होगा.
  • नहाने के दौरान पानी का नाक या मुंह में जाना- कई बार नहाने के वक्त पानी मूंह या नाक में चला जाता है तो ऐसे मौके पर रोजा टूटता नहीं है, लेकिन जानबूझ कर पानी पी लेने से रोजा टूट जाएगा
  • अपना थूक निगलने से नहीं टूटता है रोजा
  • नाखुन काटने या बाल दाढ़ी बनाने से भी नहीं टूटता है रोजा

 

Iftar Se Pahle Ki Dua (इफ्तार से पेहले की दुआ)

Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.
mm
Latest posts by Noor Saba (see all)

2 COMMENTS

Comments are closed.

mm
Asalam-o-alaikum , Hi i am noor saba from Jharkhand ranchi i am very passionate about blogging and websites. i loves creating and writing blogs hope you will like my post khuda hafeez Dua me yaad rakhna.