Islamic Blog

surah fatiha

सूरए फातेहा मक्का में नाजि़ल हुआ और इस की 7 आयते हैं
शुरू करता हूँ ख़ु़दा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है (1)
सब तारीफ ख़ु़दा ही के लिए सज़ावार है (2)
और सारे जहाँन का पालने वाला बड़ा मेहरबान रहम वाला है (3)
रोज़े जज़ा का मालिक है (4)
ख़ु़दाया हम तेरी ही इबादत करते हैं और तुझ ही से मदद चाहते हैं (5)
तो हमको सीधी राह पर साबित क़दम रख (6)
उनकी राह जिन्हें तूने (अपनी) नेअमत अता की है न उनकी राह जिन पर तेरा ग़ज़ब ढ़ाया गया और न गुमराहों की (7)

  بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَٰنِ الرَّحِيمِ

अल्लाह के नाम से जो अत्यंत कृपाशील तथा दयावान है

  الْحَمْدُ لِلَّهِ رَبِّ الْعَالَمِينَ

सारी प्रशंसाएँ अल्लाह ही के लिए हैं, जो सारे संसार का रब है।

  الرَّحْمَٰنِ الرَّحِيمِ

बड़ा कृपाशील, अत्यन्त दयावान है।

  مَالِكِ يَوْمِ الدِّينِ

बदला दिए जाने के दिन का मालिक है।

 إِيَّاكَ نَعْبُدُ وَإِيَّاكَ نَسْتَعِينُ

हम तेरी ही बन्दगी करते हैं और तुझी से मदद माँगते हैं।

اهْدِنَا الصِّرَاطَ الْمُسْتَقِيمَ

हमें सीधे मार्ग पर चला।

صِرَاطَ الَّذِينَ أَنْعَمْتَ عَلَيْهِمْ غَيْرِ الْمَغْضُوبِ عَلَيْهِمْ وَلَا الضَّالِّينَ

उन लोगों के मार्ग पर जो तेरे कृपापात्र हुए, जो न प्रकोप के भागी हुए और न पथभ्रष्ट।
Aafreen Seikh is an Software Engineering graduate from India,Kolkata i am professional blogger loves creating and writing blogs about islam.
Aafreen Seikh
Latest posts by Aafreen Seikh (see all)