Islamic Blog

Islamic Updates




60 सूरए मुम्तहिनह -पहला रूकू

60 सूरए मुम्तहिनह -पहला रूकू

अल्लाह के नाम से शुरू जो बहुत मेहरबान रहमत वाला (1)(1) सूरए मुम्तहिनह मदनी है इसमें दो रूकू, तेरह आयतें, तीन सौ अड़तालीस कलिमें, एक हज़ार पाँच सौ दस अक्षर हैं. ऐ ईमान वालो! मेरे और अपने दुशमनों को दोस्त…