Islamic Blog

Aurat, Parda aur Haya

‘Aurat’ ke badan se chehra, dono hatheliyaan aur dono talwo ke alawa poora badan Aurat hai, yani uska chupana FARZ hai. . Aurat ka badan ‘hissa e satre Aurat’ ke 26 hisse hai . . 1- Sir jahan adatan baal ugte hai . 2- Baal jo latakte hue ho . 3 & 4- Dono kaan […]

क्या इस्लाम औरतों को पर्दे में रखकर उनका अपमान करता है

» उत्तर : इस्लाम में औरतों की जो स्थिति है, उसपर सेक्यूलर मीडिया का ज़बरदस्त हमला होता है। वे पर्दे और इस्लामी लिबास को इस्लामी क़ानून में स्त्रियों की दासता के तर्क के रूप में पेश करते हैं। इससे पहले कि हम पर्दे के धार्मिक निर्देश के पीछे मौजूद कारणों पर विचार करें, इस्लाम से […]

Shohar Ki Na-Shukri Kufr Hai

» Mahfum-e-Hadees: Hazrate Abdullah Ibne Abbas (Razi’Allahu Anhu) Se Riwayat Hai Ki, Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Irshad Farmaya – “Mujhe Dozakh Dikhai Gayi, Maine Waha Aurato Ko Jyada Paya, Wajah Ye Hai Ki Woh Kufr Karti Hai”. *Sahaba-e-Kiram Ne Arz Kiya – ‘Kya Wo Allah Ke Sath Kufr(Shirk) Karti Hai?’ *Rasool’Allah Ne Farmaya – […]

Apne Shohar Ke Siwa Dusre Mard Ka Zikr Na Kare

» Mahfum-e-Hadees: Abdullah-Bin-Mas’ud (Razi’Allahu Anhu) Se Riwayat Hai Ke, Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya – “Koi Aurat Kisi Aurat Se Mil Kar Apne Shohar Se Uska (Parayi Aurat Ka) Huliya Na Bayan Kare Goya Ke Wo Usey Daikh Raha Hai”. – (Sahih Bukhari : Hadith 5241) • Wajahat: Matlab Iss Baat Ka Darr Hai […]

औरत की आबरू का आदर

*इस्लाम के दिए हुए मानव-अधिकारों में अहम चीज़ यह है कि औरत के शील और उसकी इज़्ज़त हर हाल में आदर के योग्य है, चाहे औरत अपनी क़ौम की हो, या दुमन क़ौम की, जंगल बियाबान में मिले या फ़तह किए हुए शहर में, हमारी अपने मज़हब की हो या दूसरे मज़हब की, या उसका […]

Kyuki mai ek aurat hoon

आज से बहुत साल पहले अल्लाह ने “इंसान” को बनाया यानी “मर्द” को… उस वक़्त अल्लाह ने मुझे उसके साथ नहीं बनाया, फिर मर्द को इल्‍म अता किया, और सारे फ़रिश्तों को उसे सजदा करने को कहा, मैं उस वक़्त भी नहीं थी…। मुझे अल्लाह ने इसके काफ़ी देर बाद बनाया, और अजीब बात ये […]