Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Information

Takabbur….

☆तकब्बुर….

•सवाल : तकब्बुर क्या है ??
•जवाब : खुद को अफजल और दुसरे को हकीर जानने का नाम तकब्बुर है,,

♥अल कुरआन :
“और याद करो जब हम (अल्लाह) ने फरिश्तो को हुक्म दिया की आदम को सजदा करो तो सब ने सज्दा किया, सेवाए इबलीस के, और ओ गुमराह मे आ गया और काफीर हो गया..
(अल-बकराह,34 कंजुल इमान, Mohammed Arman Gaus

✿हदीस : नबी ए करिम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) फरमाते है।-
“तकब्बुर हक की मुखालिफत और लोगो को हकीर जानने का नाम”
(सहीह मुस्लिम, किताब उल इमान, बाब-तहरिम उल कबीर, हदीस-91,)
—-
✿तकब्बुर से अपने नफ्स की पाकीजगी न जताया करो,
जो परहेजगार है उसको अल्लाह खुब जानता है।…
(मुस्लिभ शरिफ,)
—-
✿ओ शख्स किस तरह तकब्बुर कर सकता है, जो मिट्टी से बना हो, मिट्टी मे मिलने वाला हो, और मिट्टी मे किड़े-मकोड़े की गिजा बनने वाला हो,
(हजरत अबु बक्र रजी अल्लाहु अन्हु)
—-
✿तकब्बुर : “शैतानी सिफ्फत है अगर तुम अपने तकब्बुर को तोड़ना चाहते हो तो किसी गरिब और मुफलीस को सलाम किया करो..!!
(ख्वाजा गरिब नवाज रहमतुलल्लाह अलैही)

mm
Latest posts by Færhæn Ahmæd (see all)