Islamic Blog

Islamic Updates




sadqa

40 तरह का सदक़ा

​1. दुसरों को नुक़्सान पहुंचाने से बचना सदक़ा है । [बुखारी: 2518]
2. अंधे को रास्ता बताना सदक़ा है । [इब्न हब्बान: 3368]

3. बहरे के साथ तेज़ अवाज़ से बात करना सदक़ा है । [इब्न हब्बान: 3368]

4. गुंगे को इस तरह बताना के वह समझ सके सदक़ा है । [इब्न हब्बान: 3377]

5. कमज़ोर आदमी की मदद करना सदक़ा है । [इब्न हब्बान: 3377]

6. रास्ते से पत्थर, कांटा और हड्डी हटाना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

7. मदद के लिए बुलाने वाले की दौड़ कर मदद करना सदक़ा है । [इब्न हब्बान: 3377]

8. अपने ढूल से किसी भाई को पानी देना सदक़ा है । [तिर्मिज़ी: 1956]

9. भटके हुए शख़्स को रास्ता दिखाना सदक़ा है । [तिर्मिज़ी: 1956]

10. अल्लाहु अकबर कहना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

11. सूब्हानअल्लाह कहना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

12. अल्हम्दुलिल्लाह कहना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

13. ला इलाहा इल्लल्लाह कहना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

14. अस्तग़फ़िरूल्लाह कहना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

15. नेकी का हुक्म देना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

16. बुराई से रोकना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1007]

17. घर वालों पर सवाब की नियत से ख़र्च करना सदक़ा है । [बुखारी: 55]

18. दो लोगों के बीच इंसाफ़ करना सदक़ा है । [बुखारी: 2518]

19. किसी आदमी को सवारी पर बैठाना या उस का सामान उठा कर रखवाना सदक़ा है । [बुखारी: 2518]

20. अच्छी बात करना सदक़ा है । [बुखारी: 2989]

21. हर वह क़दम जिस से चल कर नमाज़ की तरफ़ जाए सदक़ा है । [बुखारी: 2518]

22. रास्ते से तकलीफ़ देने वाली चिज़ हटाना सदक़ा है । [बुखारी: 2518]

23. ख़ुद खाना सदक़ा है । [नसाइ – कुब्रा: 9185]

24. अपने बेटे को खिलाना सदक़ा है । [नसाइ – कुब्रा: 9185]

25. अपनी बीवी को खिलाना सदक़ा है । [नसाइ – कुब्रा: 9185]

26. अपने नौकर को खिलाना सदक़ा है । [नसाइ – कुब्रा: 9185]

27. किसी मुसिबत ज़दा हाज़त मंद की मदद करना सदक़ा है । [नसाइ: 253]

28. अपने भाई से मुस्कुरा कर मिलना सदक़ा है । [तिर्मिज़ी: 1963]

29. अपने भाई की मदद करना सदक़ा है । [अबु याला: 2434]

30. पानी का एक घुन्ट पिलाना सदक़ा है । [अबु याला: 2434]

31. अपने मिलने वाले को सलाम करना सदक़ा है । [अबु दाऊद: 5243]

32. आपस मे सुलह करवाना सदक़ा है । [बुखारी – तारीख़: 3/259]

33. तुम्हारे दरख़्त या ख़ेती से जो कुछ खाए तुम्हारे लिए सदक़ा है । [मुस्लिम: 1553]

34. भुके को खाना खिलाना सदक़ा है । [बैहक़ी – शुएब: 3367]

35. पानी पिलाना सदक़ा है ।  [बैहक़ी – शुएब: 3368]

36. दो मर्तबा क़र्ज़ देना एक मर्तबा सदक़ा देने के बराबर है । [इब्न माजह: 3430]

37. किसी आदमी को अपनी सवारी [गाड़ी] पर बैठा लेना सदक़ा है । [मुस्लिम: 1009]

38. गुमराही की सरज़मीन पर किसी को हिदायत देना सदक़ा है । [तिर्मिज़ी: 1963]

39. ज़रूरत मंद के काम आना सदक़ा है । [इब्न हब्बान 3368]

40. इल्म सिख कर मुसलमान भाई को सिखाना सदक़ा है । [इब्न माजह: 243]

ज़रूर शेअर करें और हमेशा जारी रहने वाले सवाब ए जारीया के हक़दार बने ।

I am noor aqsa from india kolkata i love the islam and rules i am professional blogger and also seo expert learn islam with us.
mm
mm
I am noor aqsa from india kolkata i love the islam and rules i am professional blogger and also seo expert learn islam with us.