Islamic Blog

Islamic Updates




Islamic Knowledge

मेरी क़ौम की बहनो तुम्हे दाढ़ी से क्यो नफरत है

मेरी क़ौम की बहनो तुम्हे दाढ़ी से क्यो नफरत है
याद करो वो दिन जिस दिन तुम दुनिया मे आई थी वो तुम्हारे कान मे सदाऐ तौहीद सबसे पहले आज़ान के ज़रिये बुलंद किया वो और कोई नही दाढ़ी टोपी वाला ही था ।
जब तुम सिर्फ सात दिन की ही थी तो तुम्हारे वालिद ने अक़ीक़े की दुआ पढ़ने के लिए जिसे बुलाया था वो भी एक दाढ़ी वाला मौलवी था ।
क्या वो दिन तुम्हे याद नही जब रातो को उठ कर चौंक जाया करती थी तुम्हे नज़र बद लग जाया करती थी तो वो कौन था जो तुम पर कुरान की आयाते पढ़ पढ़ कर तुम्हारी नज़र बद को उतारा करता था वो भी दाढ़ी टोपी वाला था ।
लेकिन अफसोस जब अल्लाह ने तुमको अक़्ल व शऊर अता किया और जब तुमने शबाब की दहलीज़ पर क़दम रखा तो तुमने बड़ी ढिठाई से अपने बूढ़े माँ-बाप से कह दिया मुझे दाढ़ी टोपी वाले से शादी नही करना ।
लेकिन तुम जिस सूठ बूट वाले रिश्ता जोड़ रही थी उस पाकीजा़ रिश्ते को जोड़ने के लिए भी एक दाढ़ी टोपी वाले की ज़रूरत पड़ी ।
यंही नही जब तुम इस दुनिया से रुख़सत हुई और तुम्हारा जिस्म सफे़द कफन मे मलबूस होकर आखरी रस्म अदा करने को जिसके सामने था वो जींस टीशर्ट वाला ना था आखिरी वक्त मे भी तुम उस दाढ़ी टोपी वाले की मोहताज थी जो तुम्हारे लिए अपने हाथो को बांधे हुए दुआए मांग रहा था ।
अल्लाह हुम्मग़ फ़िर ली हय्यीना व मय्यीतीना —————–
जिसे हक़ीर समझ कर बुझा दिया तुमने
वही चिराग़ जलेगें तो रोशनी होगी ।।
अगर तुम्हारे बाप भाई ने भी रख ली दाढ़ी
क्या उनके लिए भी ये ही बेरूखी होगी ।।
👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇
दाढ़ी रखने के फायदे और इनाम शेयर जरूर करें
👉🏻तमाम नबियों की सुन्नत
👉🏻सो (100)शहीदों का सवाब
👉🏻बालिग होने से लेकर मौत तक का लगातार अमल हे ,लगातार सवाब हे
👉🏻नबी सल्लल्लाहु आलिही व सल्लम से मोहब्बत की अलामत हे
👉🏻अल्लाह की रजा का सबब हे
👉🏻गला और सीना ठंडी और गर्म हवा से मेहफ़ूज़ रहता हे
👉🏻मुसलमान की पहचान हे ,लोग देख कर सलाम करेंगे ,मदद के लिए तैयार हो जाएंगे
👉🏻दाढ़ी में कंगी करने पर दुश्मनो के दिल में हमारा खौफ पैदा होता हे
👉🏻चेहरे का नूर बढ़ता हे👉🏻नेक और शरीफो की निशानी हे
👉🏻इज़्ज़त को बढाती हे
👉🏻भरोसे को बढाती हे
👉🏻हया पैदा करती हे
👉🏻गुनाह से बचने का सबब हे
👉🏻मर्दानगी को बढाती हे
👉🏻खूबसूरत हूरो का इनाम हे
👉🏻जन्नत में मन पसंद चेहरा दिया जाएगा
👉🏻दाढ़ी वालो की ही गवाही मोतबर
👉🏻गाल पर बार बार अस्तरा लगाने से उसकी कुदरती चमक का कोटिंग उतर जाता हे जिस से सूरज की जहरीली किरणों के असरात और बेक्टेरिया गाल के रास्ते अंदर जाते हे
👉🏻दाढ़ी न होना औरतो से मुशाबेहत हे इसलिए औरतो की शिफ़ात पैदा होती हे
👉🏻दिन पर चलना आसान हो जाता हे
👉🏻क्या अब भी नहीं रक्खोगे?

As-salam-o-alaikum my selfshaheel Khan from india , Kolkatamiss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.
mm
mm
As-salam-o-alaikum my self shaheel Khan from india , Kolkata miss Aafreen invite me to write in islamic blog i am very thankful to her. i am try to my best share with you about islam.