Islamic Blog

Islamic Updates




Noor Saba

Mah e Safar Ka Aakhri Budh

MAH’E SAFAR ka aakhri budh jo awam mein ”sair budh” ke naam se mashhoor hai ke mutaliq yeh mashhoor hai ke is din REHMAT’E ALAM MUHAMMAD SALLALLAHU ALAIHI WASALLAM ne ghusal’e sehat farmaya tha aur sair’o tafreh farmai thi is…

परदा (हिजाब) -Hijab

परदा (हिजाब) अपने घरों में चैन से बैठी रहो और जाहिलियत की सी सज धज दिखाती न फिरो, नमाज कायम करो, जकात दो, अल्लाह और उसके रसूल की इताअत करो। #अहजाब 33: 33 और अपने पांव जमीन पर इस तरह…

अल्लाह ﷻ को ऊपर वाला बोलना कैसा और भी कुछ ज़रूरी मसाऐल

कुछ लोग अल्लाह ﷻ का नाम लेने के बाजाऐ उसको ऊपर वाला बोलते हैं ये निहायत गलत बात है बल्किह अगर ये अक़ीदह रख कर ये लफ्ज़ बोले कि अल्लाह ﷻ ऊपर है तो ऐ कुफ्र है कियोंकि अल्लाह ﷻ…

Juma khutba In Hindi | जुमा का खुतबा हिंदी में

जुमा पढने के लिए जुमा का खुतबा सुनना शर्त है बगैर खुतबा पढे जुमा की नमाज अदा नहीं होती इस लिए आसान तरीके से हम आप को बतायेगें अस्सलामु अलैकुम राहेमुतुल्लाहि व बरकातु प्यारे इस्लामी भईयों और बहनों जुमा का…

Namaz ke Bad Ki Dua – नमाज़ के बाद की दुआएं

Namaz ke Bad Ki Dua – नमाज़ के बाद की दुआएं

Beautiful Dua in Hindi

यह दुआ बोहोत प्यारी है , इसको सुकून से पढ़ो और दिल में (आमीन ) कहो और इस msg को आगे फॉरवर्ड करो ,हो सकता है के दुसरे लोगो की आमीन से अपनी दुआ कबूल हो जाये ( आमीन )…

निकाह मैं जल्दी करो – Nikah

*_निकाह मैं जल्दी करो…._* *_लड़की के बालिग़ होते है उसके निकाह करने में जल्दी करना सुन्नत….इसकी दिनी और दुनियावी दोनों चीज़े हमे मअलूम होना चाहिए…._* _आइये पहले दीन से समझ ले, लड़की को 9 साल के बाद अपने पास सुलाने…

बैतूल खला व इस्तिंजा के आदाब

Toilet Etiquette Hindi | बैतूल खला व इस्तिंजा के आदाब Toilet Etiquette | बैतूल खला व इस्तिंजा के आदाब | Hindi मज़हबे इस्लाम की खासियत है कि उसने ज़िन्दगी के किसी किनारे को भी नहीं छोड़ा जहा उसने रहनुमाई न…

बेहद खास पोस्ट है पडिये ओर समझिये

***ईसलाम मे” जबर्दस्ती “निकाह” करना जायज़ नहीं,, इसलिए “निकाह मे लडकी या लडके की रजामंदी होना जरूरी है,, **** *****ईसलाम मे लडके लडकी को बराबर के हकुक दिये हैं,, मगर अब भी कुछ खानदान के मे बडों की मर्जी” मायने…

निकाह के फज़ाइल

*निकाह के फज़ाइल* खालिके कायनात ने मर्दो औरत के दरमियान एक दूसरे की महब्बत से सुकून हासिल करने और लुत्फ़ अन्दोज़ होने की जो ख्वाहिश रखी है, उसका नाम *’जिमाअ’* है। इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिये शरीअते इस्लामी…